अमिताभ सर जो बोलते हैं, दुनिया मंत्रमुग्ध होकर सुनती है

1 min


किसी ने ठीक कहा है कि दुनिया जिसे महान कहे, वही असली महान है, और अमिताभ सर उन्हीं महानों में से एक हैं जो खुद को कभी महान नहीं मानते हैं। जब उन्हें कहा जाता है कि हिन्दी सिनेमा के सभी एक्टर उन्हें अपना प्रेरणास्रोत मानते हैं तो अमिताभ सर यह सुनकर हंस पड़ते हैं और कहते हैं, ‘‘यही तो गलती करते हैं वे सब, मैं कहां उन्हें कोई एडवाइज़ दे सकता हूं बल्कि मैं तो उनसे एडवाइज़ ले सकता हूं। मुझे आज के जेनेरेशन के कलाकारों के साथ काम करने की बहुत खुशी है, वे सब के सब प्रतिभावान हैं।’’ जब उनसे कहा गया, ‘‘आपको सभी लोग लेजेन्ड स्वीकारते हैं, आप इस बारे में क्या कहेंगे?’’ तो फिर से हंसकर कहते हैं वे , ‘‘यह सब आप लोगों ने बनाया है और कहा है, मैं तो नहीं मानता। हां मैं अपने शुभचिन्तकों का आभार प्रकट करता हूं कि वे मुझे इतना प्यार देते हैं और मुझे आज तक झेलते रहे हैं, उनकी वजह से ही आज भी मैं फिल्मों में काम कर रहा हूं और तब तक करूंगा जब तक शरीर साथ देगा।’’ वाह! सर जी, आप जब बोलते हैं तो दुनिया सुनती रहती है।

SHARE

Mayapuri