कौन कहता है कि, अनुपम खेर ने एक रंग और बदला है? – अली पीटर जॉन

1 min


मैंने अनुपम खेर को कई चैनलों पर शब्दों से युद्ध का सामना करते और लड़ते देखा है और कभी-कभी सोचता हूं कि क्या यह वही अनुपम है, जिसे मैंने शिमला से आए एक सधारण व्यक्ति के रूप में देखा था जो देश और दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में रहने वाले किसी भी व्यक्ति कि तरह था। मैं ठीक था और अक्सर सोचता था कि क्या यह वही अनुपम खेर है, अगर नहीं तो वह कौन था, ‘अनुपम’ जिसे मैं एक युवा के रूप में जानता था, जो कहते थे कि जब वह स्कूल में थे तब उन्हें 48 से अधिक अंक कभी प्राप्त नहीं हुए थे। – अली पीटर जॉन

मेरे साथ मेरे अभिनेता मित्र नितिन आनंद थे, जो अनुपम के प्रशंसक थे

मैं तब भी अनुपम के बारे में सोच रहा था जब मैंने एक प्रमुख समाचार चैनल पर उनके साथ एक लाइव साक्षात्कार देखा और किसी भी अन्य समय की तरह, जो कुछ भी उन्होंने कहा, वह प्रबुद्ध, सूचित और वाक्पटु था!

मैं तब भी अनुपम के बारे में सोच रहा था जब मैंने एक प्रमुख समाचार चैनल पर उनका एक लाइव इंटरव्यू देखा और हर बार की तरह, जो कुछ भी उन्होंने कहा, वह काफी एन्लाइटन्ड, इन्फॉर्म्ड और भावपूर्ण था। उन्होंने मुझे अपनी नई पुस्तक ‘योर बेस्ट डे इज टुडे’ की एक कॉपी देने का वादा किया था, जो उन्होंने मुझे बताया था कि वह एक विचार था जिसे उन्होंने लॉकडाउन के दौरान लिखा था। मैं अभी भी उनका इंटरव्यू देख रहा था जब उन्होंने मुझे फोन किया और मुझसे पूछा कि क्या मैं उनसे दोपहर 12 बजे उनके स्कूल के ऑफिस में मिल सकता हूं? मैं उनकी ‘एक्टर्स प्रिपेर’ तक पहुँच गया और हम दोनों निश्चित समय पर पहुँच गए थे। मेरे साथ मेरे अभिनेता मित्र नितिन आनंद थे, जो अनुपम के प्रशंसक थे, जो उनके चेहरे उनकी नजर, उनकी आँखों कि चमक और उनके शरीर कि हर मूवमेंट के दीवाने थे!

हम दोनों ने अपनी भावना को नियंत्रित करने की बहुत कोशिश की, जो ओवरफ्लो के लिए तैयार थी

अनुपम के साथ उनके ‘मैन फ्राइडे’, दत्तू भी थे, जो 40 साल से अधिक समय से अनुपम के साथ एक चट्टान की तरह खड़े हैं और जो उनके साथ हर उस जगह जाते है जहां भी अनुपम जाते हैं हालाँकि अनुपम इन दिनों ज्यादा दूर नहीं जा रहे हैं!

अनुपम ने मुझे उसी तरह से रिसीव किया, और वह मुझे सही तरह से कपड़े पहने और जूते पहने देखकर आश्चर्यचकिंत थे, जो उनके लिए कुछ ऐसा था जिसे उन्होंने कभी सोचा नहीं था क्योंकि मुझे जानने के 42 वर्षों के भीतर उन्होंने कभी मुझे इस अंदाज में नहीं देखा था। यह एक भावनात्मक मुलाकात थी, लेकिन हम दोनों ने अपनी भावना को नियंत्रित करने की बहुत कोशिश की, जो अतिप्रवाह (ओवरफ्लो) के लिए तैयार थी और मुझे कहना होगा कि हम सफल रहे और अपनी बातचीत को जारी रखा जो उस समय के लिए भी बेहतर था जब मैं उनके साथ था!

अनुपम खेर

और जैसा कि मैं उनसे बात कर रहा था मैंने उनकी लाइब्रेरी की सभी किताबों को देखा और मुझे फिर से किताबों से प्यार हो गया। मैंने उनसे उस पहली पुस्तक के बारे में पूछा जो उन्होंने कभी पढ़ी थी और उन्होंने कहा कि यह मैक्सिम गोर्की की ‘माँ’ का हिंदी अनुवाद था जिसने न केवल उन पर एक गहरा प्रभाव छोडा था, बल्कि उन्हें हर पुस्तक का एक वाचक पाठक होने के लिए प्रेरित किया था जिससे पढ़ने की उनकी लालसा पर असर पड़ा था। और आज अनुपम के पास दुनिया भर की किताबों का खजाना है। जब उन्होंने मुंबई में बाढ़ के कारण खोई चैदह हजार किताबों के बारे में बात की तो उसकी आँखों में निराशा छाई हुई थी।

मेरे लिए दो स्मृति चिन्ह विशेष थे, जिसमें से ‘वाकिंग स्टिक’ थी जिसका इस्तेमाल उन्होंने फिल्म ‘सारांश’ में किया था

वह मुझे दूसरे कमरे में ले के गए और मेरी आँखें उनके सभी पुरस्कारों, स्मृति चिन्हों, एक से बढ़कर एक महत्वपूर्ण और कीमती चीजो को देख कर हेरान हो गई थी! और मेरे लिए दो स्मृति चिन्ह विशेष थे, जिसमे से ‘वाकिंग स्टिक’ थी जिसका इस्तेमाल उन्होंने फिल्म ‘सारांश’ में किया था और एक ‘धारीदार कोट’ जो उन्होंने 1976 में एक फिल्म के लिए पहना था, जो अभी भी उन्हें फिट बैठता है!

जैसा कि उन्होंने अपनी नई किताब की मेरे लिए अपना ऑटोग्राफ साइन किया, मुझे एहसास हुआ कि मैं एक ओर अधिक परिष्कृत (सफिस्टकेटिड) एक्टिंग स्कूलों में बैठा था। उन्होंने पहले महाराष्ट्र हाउसिंग बोर्ड की एक हाउसिंग कॉलोनी में एक जगह एक एक्टिंग स्कूल बनाया था! फिर वह जुहू के अजीवासन हॉल में एक बड़े स्कूल में शिफ्ट हो गया, जो मुझे लगता है कि उन्होंने गायक सुरेश वाडकर से किराए पर लिया था। एक शिक्षक के रूप में उनके विश्वास और विश्वास के कारण उनके छात्रों की संख्या बढ़ती रही और इसलिए उन्हें अपने स्कूल ‘एक्टर्स प्रिपेयर’ को एक बड़ी जगह पर ले जाना पड़ा और उनका ऑफिस भी एक बड़ी सी जगह में स्थित है और सबसे उत्तम तरीके से बना हुआ है!

इमारत के होंटेड होने की अफवाह ने उन्हें और उनकी पत्नी किरण का दिमाग बदल दिया था
अनुपम खेर

और उन्होंने मुझसे उन सभी विभिन्न स्थानों के बारे में बात की है, जहाँ उन्होंने अपना ऑफिस बनाया था, वह मुझे एक फ्लैशबैक में ले गए जब वह खेरवाड़ी नामक एक झुग्गी में रहते थे, फिर शास्त्री नगर में एक कमरे में शिफ्ट हो गए और फिर बांद्रा के पॉश हिल रोड इलाके में एक टूटे-फूटे मकान में रहने लगे थे और सफलता के साथ एक ऐसे क्षेत्र में एक बड़ा एपार्टमेंट खरीदने की कोशिश की जहां बोनी कपूर, संजय कपूर और एन चंद्रा जैसी तत्कालीन हस्तियां रहती थीं, लेकिन इमारत के प्रेतवाधित (होंटेड) होने की अफवाह ने उन्हें और उनकी पत्नी किरण का दिमाग बदल दिया था और वह वहा से चले गए। बंगला एक समय के खलनायक रंजीत द्वारा बनाया गया था और जब चीजें काम नहीं करती थीं, तो वह और उनका परिवार जिसमें किरण और सिकंदर शामिल थे, अनिल कपूर जहां रहते हैं, उसके ही पास रहने लगे थे!

अनुपम खेर

क्या अनुपम अब अपने जीवन और करियर में सेटल हो गए है और शांति से काम कर रहे है और शांति की तलाश में उन सभी स्थानों की तुलना में सबसे ऊंचे स्थान पर पहुंच गए है?

एक दोस्त और एक शुभचिंतक के रूप में, मुझे आशा है कि, वह ऐसा करेंगे और वह ऐसी किसी भी चीज से दूर रहते है जो उन्हें उन ऊँची जगहों तक पहुँचने से दूर करती है जिसका उनको बेसब्री से इंतजार रहा हैं!

अनु-छवि शर्मा

Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये