ज़ाहिदा का दावा है कि वहीदा रहमान की ‘गाइड’ में पहले उन्हें कास्ट किया गया था

1 min


दुनिया के किसी अन्य हिस्से में अभिनेता उन भूमिकाओं के बारे में बात नहीं करते जो उन्होंने नहीं कीं या जो वह नहीं कर सके। कल्पना कीजिए कि वॉरेन बिटी डींग मारते हुए कहें कि उन्होंने ‘द गॉडफादर’ को ठुकरा दिया था! लेकिन हमारे बॉलीवुड कलाकार लगातार उन भूमिकाओं के बारे में ज़रूर बात करते रहे हैं जिन्हें उन्होंने ठुकरा दिया था। मगर कुछ कलाकारों के दावे बहुत खोखले लगते हैं। – सुभाष के झा

मुझे पूरा यकीन है कि देव आनंद साहब ने ज़ाहीदा को ‘गाइड’ में रोज़ी की कभी न भुलाई जा सकने वाली भूमिका की पेशकश कभी नहीं की थी। कम से कम सीरियस होकर तो कभी नहीं। गाइड जैसी फिल्म के बारे में ऐसे दावे करने से पहले कलाकारों को कम से कम दो बार सोचना चाहिए

जो नहीं जानते हैं उन्हें बता दूँ कि ज़ाहीदा नरगिस की भतीजी और करैक्टर आर्टिस्ट अनवर हुसैन की बेटी हैं, जिन्होंने असित सेन की फिल्म ‘अनोखी रात’ से अपनी कैरियर की शुरुआत की थी। उन्होंने एक समय देव आनंद का ध्यान आकर्षित ज़रूर किया था और देव साहब ने उन्हें अपनी दो फिल्मों, प्रेम पुजारी और द ग्रेट गैम्बलर में भी कास्ट किया था।

लेकिन गाइड?? सीरियसली? मतलब ही नहीं होता क्योंकि इस रोल के लिए एक डांसर की आवश्यकता थी। विद रिस्पेक्ट, मैंने ज़ाहिदा जी को ‘प्रभात’ नामक फिल्म में “डांस” करते देखा है। उन्हें मदन मोहन-लता मंगेशकर की शानदार धुन ‘साकिया करीब आ’ पर डांस करना था। लेकिन जब डांस करते वक़्त उनका एक भी कदम सही नहीं पड़ा, तब निर्देशक को अंततः दो नर्तकियों को फ्रेम के दोनों किनारों पर अपना काम करने का आदेश दिया, जबकि ज़ाहीदाजी बीच में लिप-सिंक कर रही थीं। कल्पना कीजिए कि ज़ाहीदा जी ‘पिया तोसे नैना लागे रे’ के साथ क्या किया होता और ‘सैयां बेईमान’की क्या दुर्दशा हुई होती? मैं पौराणिक सांप नृत्य का तो उल्लेख ही नहीं करना चाहता।

कुछ साल पहले मेरे साथ एक साक्षात्कार में सायरा बानो जी ने भी दावा किया था कि उन्हें भी विजय आनंद की गाइड में रोज़ी के अविस्मरणीय करैक्टर की पेशकश की गई थी।

जब वहीदा रहमान, जो कि ग्रेसफुल हैं, ने इसे पढ़ा तो उन्हें बहुत दुख हुआ। उसने अपने एक बेहद करीबी दोस्त से कहा, ‘वह इतने सालों बाद इस बारे में बात कर ही क्यों रही है? इससे कौन सा उद्देश्य पूरा होगा?”

बिल्कुल सही बात। अगर वहीदा रहमान को शबाना आज़मी से पहले श्याम बेनेगल की अंकुर की पेशकश की घोषणा करनी थी, तो इसका क्या उद्देश्य है? रिकॉर्ड के लिए, वह थी।

रिकॉर्ड को सीधा करने के लिए, गाइड को गंभीरता से केवल दो अभिनेत्रियों वैजयंतीमाला और वहीदा रहमान को पेश किया गया था। गाइड निर्देशक विजय आनंद वैजयंतीमाला चाहते थे जबकि फिल्म के निर्माता और प्रमुख व्यक्ति देव आनंद वहीदा रहमान के लिए उत्सुक थे।

गाइड में भारतीय गृहिणी की मुक्ति के विजय आनंद के क्लासिक अध्ययन में यादगार रोज़ी की भूमिका निभाने वाली कालातीत वहीदा रहमान के अलावा किसी पर भी विश्वास करना मुश्किल है। लेकिन उसने प्रस्ताव को लगभग ना कह दिया।

वहीदाजी ने मुझे इस खुलासे से चौंका दिया। ‘गाइड’ सिर्फ मेरी सबसे प्रतिष्ठित फिल्म नहीं है। यह देव का सबसे प्रसिद्ध कार्य भी था। हां, आप जैसे चाहें चौंक कर अभिनय कर सकते हैं। लेकिन तथ्य यह है कि मैंने लगभग ‘गाइड’ नहीं की थी। हुआ यूं के, शुरू में गाइड को राज खोसला द्वारा निर्देशित किया जाना था। राज खोसला और मेरे बीच पहले की एक फिल्म के दौरान मतभेद थे। उसके बाद मैंने उनके साथ कभी काम नहीं किया। और मैं इसे ‘गाइड’ या किसी अन्य फिल्म के लिए बदलने को तैयार नहीं था। लेकिन आप जानते हैं कि देव कितने प्रेरक थे। उसने फोन किया और कहा, ‘चलो, वहीदा। जो बीत गया उसे बीत जाने दो। गलतियां सबसे होती हैं।’ लेकिन मैंने झुकने से इंकार कर दिया। मैंने देव से पूछा कि उनके भाई गोल्डी (विजय आनंद) निर्देशन क्यों नहीं कर रहे हैं। लेकिन गोल्डी ‘तेरे घर के सामने’ में व्यस्त थे। आखिरकार, राज खोसला की जगह चेतन आनंद ने ले ली। लेकिन वह मुझे नहीं चाहता था! मैं हँसा। ये तो अच्छा हुआ। एक निर्देशक मुझे नहीं चाहिए था और दूसरा निर्देशक मुझे नहीं चाहता था। मुझे लगता है कि चेतन साब प्रिया राजवंशजी को चाहते थे। लेकिन देव अड़े थे। उन्हें एक डांसर की जरूरत थी। और प्रियाजी नृत्य नहीं कर सकती थी। आखिरकार गोल्डी ने ‘गाइड’ का निर्देशन किया। इस तरह मुझे ‘गाइड’ मिला। बाकी, आप जानते हैं। यह एक ऐसी फिल्म है जिस पर मुझे बहुत गर्व है।’

वहीदाजी ने देव आनंद के साथ सात फिल्में कीं, जिनमें ‘सोलवा साल’, ‘काला बाजार’ और उनके निर्देशन में बनी पहली फिल्म ‘प्रेम पुजारी’ शामिल हैं।

‘तो आप हमारे आराम के स्तर की कल्पना कर सकते हैं। दरअसल, हिंदी में मेरी पहली ही फिल्म ‘सी.आई.डी.’ देव आनंद के साथ थी। मैं देव आनंद और मधुबाला की बहुत बड़ी फैन थी। तो क्या आप अंदाजा लगा सकते हैं कि उनके साथ एक फिल्म करने में मेरे उत्साह और घबराहट का क्या हुआ। सेट पर पहले ही दिन जब मैंने उन्हें ‘देव साहब’ कहा तो वो पलटे और बोले ‘नहीं नहीं, मुझे देव बुलाओ’। मैं खुद को उनके पहले नाम से बुलाने के लिए खुद को नहीं ला सका, यह मेरी परवरिश नहीं थी। इसलिए मैंने सुझाव दिया कि मैं उन्हें ‘आनंदजी’ कहूं। उसने मेरी तरफ देखा और कहा, ‘क्या मैं तुम्हें एक स्कूली शिक्षक की तरह दिखता हूं?’ अगले दिन जब मैंने उन्हें ‘देव साहब’ कहा, तो उन्होंने इधर-उधर देखा जैसे उन्हें नहीं पता कि मैं किसको संबोधित कर रहा हूं। आखिरकार मुझे उन्हें ‘देव’ कहना पड़ा। और ‘देव’ वह अंत तक बने रहे,’

SHARE

Mayapuri