सोनी सब के ‘वागले की दुनिया’ में क्‍या वंदना अपनी बहादुरी से बचा पायेगी एक छोटी बच्‍ची की जान

1 min


सोनी सब के ‘वागले की दुनिया-नई पीढ़ी नये किस्‍से’ अपने रोमांचक ट्विस्‍ट से लगातार दर्शकों का ध्‍यान अपनी ओर खींच रहा है। इस शो में वागले  परिवार के दैनिक जीवन की घटनाओं को दिखाया जाता है। यह तीन पीढि़यों की कहानी है। इस शो ने अपनी ताजगीपूर्ण कहानियों से दर्शकों के दिलों में अपनी एक खास जगह बनाई है और इसे लोगों का भरपूर प्‍यार एवं सपोर्ट मिल रहा है। इस शो के आगामी एपिसोड्स में वंदना (परिवा प्रणति ) की बहादुरी को दिखाया जायेगा। दर्शक इस शो में देखेंगे कि वंदना किस तरह एक छोटी बच्‍ची की जान बचाने के लिये मजबूती से खड़ी रहती है और अपने रास्‍ते में आने वाली मुश्किलों का डटकर सामना करती है।

राजेश (सुमीत राघवन) एक जरूरी कॉन्‍फ्रेंस के लिये अहमदनगर गया हुआ है और यह वंदना के लिये पूरा दिन अपने हिसाब से बिताने का एक सुनहरा मौका है। लेकिन उसे शायद ही इस बात का अंदाजा है कि आने वाला दिन उसके लिये मुसीबतें और परेशानियां लेकर आने वाला है। अहमदनगर जाने से पहले सुमीत, वंदना को किसी जरूरी काम से बैंक जाने के लिये कहता है। वंदना जैसे ही घर से बाहर निकलने वाली होती है, उसे अथर्व और विद्युत की चीख सुनाई पड़ती है। चीख सुनकर जब वंदना वहां पर पहुंचती है, तो देखती है कि उसकी नौकरानी आशा ताई की बेटी कोमल बच्‍चों के साथ खेलते समय बेहोश होकर गिर गई है। उसे फौरन यह महसूस होता है कि यह कोई गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या है और आनन-फानन में वह बच्‍ची को लेकर अस्‍पताल पहुंच जाती है। इस दौरान रास्‍ते में ट्रैफिक मिलने पर वह बच्‍ची को अपने हाथों में उठाकर अस्‍पताल की ओर दौड़ पड़ती है। अस्‍पताल पहुंचने पर वंदना को बच्‍ची की गरीबी की वजह से भेदभावपूर्ण  रवैये का सामना करना पड़ता है। उसकी अस्‍पताल के अधिकारियों से इस बात को लेकर बहस भी हो जाती है और वह उनसे कहती है कि उन्‍हें मरीज के पद और स्‍टेटस के आधार पर किसी तरह का भेदभाव नहीं करना चाहिये। समय बीत रहा है और वंदना जिंदगी एवं मौत के बीच झूल रही एक बच्‍ची की जान बचाने के लिये संघर्ष कर रही है।

क्‍या  वंदना बच्‍ची की जान बचाने में कामयाब हो पायेगी? इस नई चुनौती का सामना वह किस तरह करेगी?

वंदना वागले का किरदार निभा रहीं परिवा प्रणति ने कहा, “आगामी एपिसोड्स में वंदना,आशा ताई की बेटी के लिये रक्षक बनती नजर आयेगी। अस्‍पताल तक पहुंचने में उसे कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा है और वह लगातार भगवान से उस बच्‍ची की जान की रक्षा करने के लिये प्रार्थना कर रही है। दर्शकों के लिये यह देखना दिलचस्‍प होगा कि वंदना उस बच्‍ची की जान कैसे बचाती है और किस तरह बहादुरी एवं मजबूती से रास्‍ते में आने वाली मुसीबतों का सामना करती है। इस एपिसोड में उस सामान्‍य भेदभाव को दिखाया गया है, जिसे हम अपने दैनिक जीवन में अक्‍सर देखते हैं। हमारे समाज में आमतौर पर पैसे और रूसूख वाले लोगों को ज्‍यादा तवज्‍जो एवं अहमियत दी जाती है। इस सप्‍ताह की कहानी इसी मुद्दे को दिखाती है और यह बताती है कि हर इंसान की जान कीमती होती है, फिर चाहे वह कोई गरीब या बिना रूसूख वाला इंसान ही क्‍यों न हो।”

देखते रहिये वागले की दुनिया, हर सोमवार से शुक्रवार, रात 9:00 बजे सिर्फ सोनी सब पर

SHARE

Mayapuri