नये वर्ष की फ्रेशेस्ट जोड़ी रितिक और यमी के बीच टैंगो की केमिस्ट्री

1 min


अपनी पहली फिल्म ‘कहो ना प्यार है’ से लेकर पापा राकेश रोशन द्वारा निर्मित तथा संजय गुप्ता द्वारा निर्देशित अपनी नवीनतम होम प्रोडक्शन की फिल्म ‘काबिल’ में रितिक ने ना सिर्फ एकदम विपरीत चुनौतीपूर्ण भूमिका निभाई है बल्कि बॉलीवुड की अलग-अलग नई और स्थापित दोनों टाइप की नायिकाओं के साथ काम करने की धाक भी जमा ली है। फिल्म काबिल के बारे में कहा जा रहे हैं कि बॉलीवुड में फ्रेश पेअरिंग हमेशा एक्साइटमेंट क्रिएट करता है और इस नए वर्ष की फ्रेशेस्ट जोड़ी के रूप में रितिक और यामी को सबसे ज्यादा वोट्स, लाइक्स और थम्प्स अप मिले हैं। बताया जा रहे हैं की फिल्म में दोनों ही विजुअली इम्पैर्ड (अंधे) कपल के रुप में जिस तरह से इंटेंस एनर्जी और ग्रेट केमिस्ट्री के साथ नजर आ रहे हैं वह बॉलीवुड में चर्चा का विषय बना हुआ है। वैसे तो रितिक अपने पर्फेक्ट ट्विंकल फीट डांस के लिए मशहूर है और अपने कंटेंपरेरी ऐक्टरों के लिए ईर्ष्या की वजह बने हुए हैं, लेकिन मजा तो तब आया जब भोली सूरत और मासूम जवानी की मल्लिका यमी गौतम ने पहली बार ऋतिक के साथ टैंगो किया। ‘मोन अमोर” देखेंगे तो पता लगेगा उनके ‘सौव तथा परफेक्टली सिंक्रोनाइज़्ड मूव्स *राजेश रोशन द्वारा कंपोज तथा मनोज मुन्तशिर द्वारा लिखित) देख कर दंग रह जाना बनता ही है। कोरियोग्राफर अहमद खान ने बताया कि क्योंकि दोनों किरदारों को अंधा दिखाया गया है इसलिए उनके डांस करने के तरीके में एक दूसरे को लीड करते हुए दिखाना जरूरी था। रितिक, यामी के हर मूवमेंट से बमुश्किल एक मिली सेकंड पहले स्टेप्स उठाते थे, जो वाकई मोमेंट्स टास्क था, क्योंकि डांसर को हमेशा सांग के बीट्स फॉलो करना होता है।

अभिनय के मामले में भी रितिक और यामी को अपना प्रेम प्रदर्शन की प्रत्येक फीलिंग को बदन के दूसरी इंद्रियों द्वारा दिखाया जाना पड़ा। रितिक और यामी दोनों इस बात पर एकमत थे कि जब हम हकीकत में सब कुछ देख पा रहे हैं तो ना देख पाने का अभिनय करना बेहद कठिन था। दोनों पलक झपकने की नॉर्मल क्रिया को भी रोके हुए थे और शूटिंग के वक्त आस-पास चल रहे हलचल से अपने को निर्विकार रख रहे थे। रितिक और यामी ने एक माइंड गेम अपने दिमाग में फिट कर लिया।  दोनों ने बताया कि उन्होंने अपने को वाकई आंखों से लाचार हैं, ऐसा सोचकर पूरी फिल्म में काम किया जो दोनों के लिए एनर्जी ड्रेनिंग काम जरूर था।

ऐसा दोनों इसलिये कर पाए क्योंकि उनके बीच एक अनोखी केमिस्ट्री जन्म ले चुकी थी। फिल्म की शूटिंग शुरू होने से पहले दोनों एक दूसरे को पहचानते भी नहीं थे। रितिक जोश में बोले, ” यह मेरे करियर का सबसे स्पेशल लव स्टोरी है और यामी के साथ काम करने का एहसास कुछ अनोखा  और एनरिचिंग भी है,यामी की खूबसूरती उनकी मासूमियत में है और फिल्म को ऐसे ही मासूम खूबसूरती की जरूरत थी। अब आप यमी को कभी ना देखा हो ऐसे अवतार में देखेंगे। यामी को एप्रिशिएट करना है तो पहले इस फिल्म में यह देखो कि उन्होंने अपने चरित्र में क्या रस भरा है। मैं कुछ बोलूंगा तो आप लोग हजार बातें बनाने लगोगे और शायद मेरे शब्द उनके किए काम के प्रति न्याय नहीं कर पाएगा। मैं बस इसे भाग्य ही मानता हूं कि इस रोल के लिए यामी को चुना गया।”

जब यामी से पूछा गया कि रितिक के साथ उनकी केमिस्ट्री का माजरा क्या है तो वह भी शर्माती हुई बोली कि जब उन्हें पता चला कि इस फिल्म में उनका हीरो रितिक है तो पहले तो वह बहुत नर्वस हुई, यामी बोली, ” रितिक को ग्रीक गॉड, सुपरस्टार तथा गॉड ऑफ डांस का टैग मिला हुआ है इसीलिए मन में घबराहट थी कि कैसे उनके कदम से कदम मिला पाऊंगी लेकिन जब हम दोनों पहली बार शूटिंग के दौरान मिले तो मैंने पाया कि वे खुद अपनी  इन खिताबों से अनजान है। वे बेहद सिंपल और साथियों को मदद करते हुए उनसे बेहतरीन काम निकालने में निस्वार्थ लगे रहते हैं मैं ऋतिक की तरह इतनी जेनरेस (उदार)  नहीं हूं। हम सब रितिक को एक सुपरस्टार के रुप में जानते हैं लेकिन जब आप उनसे मिलोगे, बात करोगे तो पता लगेगा कि उनमें कोई घमंड नहीं है। मैं पहले, सोशली कभी रितिक से नहीं मिली थी इसलिए शूटिंग के पहले दिन में मैंने रितिक से कहा, “hi, मैं यमी गौतम हूँ और मै बहुत नर्वस हूं।” रितिक ने भी फटाक से जवाब दिया, ” hi मै रितिक रोशन हूँ, मैं भी बहुत नर्वस।”

इस  फिल्म ‘काबिल’ को दुनिया भर से बहुत पॉजिटिव रिएक्शन मिल रहे हैं । कुछ लोग सोशल मिडिया द्वारा इस फिल्म को लेकर ट्रॉल भी कर रहें हैं। पिछले दिनों किसी अंजान ने लिख दिया कि रितिक एक अंधे का किरदार निभा रहा है तो उनकी कलाई में घड़ी क्यों दिखाई गयी है?? इसपर फिल्म के निर्देशक संजय गुप्ता बताते हैं, “कितनी शोचनीय बात है कि पढ़े लिखे लोग भी डिसेबल्ड लोगों के बारे में जानतें ही नही है। शायद लोगों को पता नहीं है कि मार्केट में ब्रेल घड़ियां, और टाइम बोलने वाली घड़ियां भी उपलब्ध है जो सिर्फ एक बटन के दबने से काम करती है। हम लोगों ने इतनी बड़ी फिल्म बनाते हुए भरपूर शोध तो किया ही होगा, भला कोई सोच भी कैसे सकता है कि मै ऐसी भयंकर गलती कर सकता हूँ। जब आप फिल्म देखेंगे तो पता लगेगा कि इस फिल्म में घड़ी का क्या औए कितना महत्त्व है।”

संजय गुप्ता निर्देशित यह फिल्म रियल खूबसूरत लोकेशन्स में सिर्फ और सिर्फ साठ दिनों में बनकर पूरी हुई है और अब रुपहले पर्दे पर जादू जगाने के लिये तैयार है। 25 जनवरी 2017 को इस जादू में खो जाने को तैयार हो जाइये।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये