INTERVIEW: “हमने अपने काम से शादी की है – यामी पुलकित

1 min


लिपिका वर्मा

दोनों की पिछली फिल्म,”सनम रे ” के समय मीडिया में उनकी लव स्टोरी और शादी शुदा होने की काफी सरगर्मी से चर्चा चल रही थी। क्या यह “प्रमोशनल रणनीति के तहत किया गया था या फिर यह चर्चा किसी धूए (यानि सच्चाई) की वजह से हो रही थी। यही जानने के लिए हमने यामी गौतम और पुलकित सम्राट से सीधी बातचीत की –

पेश है उनकी शादी की सच्चाई -लिपिका वर्मा द्वारा –

यामी और पुलकित आपके फैंस सोचते है कि आप रियल लाइफ में शादी -शुदा जोड़े है क्या यह सही है ?

देखिये बड़ी चालाकी से फैंस के बहाने आप अपना सवाल पेश कर रहे है इसकी मैं दाद देती हूँ। सही मायने में हमारी परदे पर जो रोकिंग केमेस्ट्री है वह इतनी धुआँधार है- कि हमारे फैंस यह सोचने पर मजबूर हो जाते है कि हम सही मायने में रियल कपल है। पर में आपको यह बतला दूँ कि फिल्म ,”जुनूनियत “मैं सुहानी का किरदार परफॉर्म कर रही हूँ और यदि सुहानी अपना किरदार अच्छे से नहीं निभाती है तो जहान (पुलकित) भी अपना किरदार अच्छी तरह परफॉर्म नहीं कर पाएगा। और इस बात की मुझे ख़ुशी है कि हमारे फैंस रील पर हमे देख कर यह सोच रहे है कि हम शादी-शुदा है। इस से यही साबित होता है कि हमारी परफॉर्मेंस उन्हें पसंद आई है।

junooniyat-1464154394

“और जहाँ तक आप हमे आइकोनिक स्टार्स काजोल -शाहरुख़ से हमारी केमेस्ट्री की तुलना कर रहे है इस बारे में यही कहना चाहूँगी -की हम उनके सामने बहुत छोटे है उनकी बराबरी नहीं कर सकते है। एक लव स्टोरी की सफलता का यही माप दण्ड होता है – जो परदे पर पेश करना है उस में सच्चाई नजर आनी चाहिए।

CjNm83IXIAAcuo6

पुलकित सम्राट -,” आप सब को मैं यह अवगत करवाना चाहता हूँ कि-कई बरसूँ पहले राम और सीता की जोड़ी ने भी यही जलवा दिखलाया था  “महाभारत सीरियल में। आज तक सारे लोग उनके पैर पड़ते है और उनका आशीर्वाद लेते है। बस यदि हमारे फैंस भी यही सोच रहे है-हम सही मायने में शादी-शुदा है तो मैं यही कहूंगा की यह हमारी ऑन स्क्रीन केमेस्ट्री की सफलता है। हमने अपने काम से शादी की है। “

463043-junooniyat-pulkit-samrat-yami-gautam

फिल्म आर्मी पर बेस्ड है सो यामी /पुलकित उनके लिए क्या करना चाहेंगे ?

यामी – देखिये, एंटरटेनमेंट के माध्यम से चाहे म्यूजिक/ डांस या फिर कोई और चीज़ हो जो आर्मी वालों के दिल को ख़ुशी दे जाये मैं वही करना चाहूंगी उनके लिए। “

पुलकित- मैं उन्हें कुछ भी नहीं दे पाउँगा। जाहिर सी बात है वह बेचारे अपनी छाती पर गोलियां खा कर हमे चैन की नींद सोने देते है, इस से ज्यादा क्या हो सकता है। बस इस पल उन्हें बहुत बड़ा दिल से ,” थैंक्यू ” देना चाहूंगा।”


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये