मूवी रिव्यू: हल्की फुल्की हास्य फिल्म ‘ये है लॉलीपॉप’

1 min


रेटिंग 000

प्यार परिवार और स्नेह किसी भटके हुये शख्स को सही रास्ता दिखा सकता है । हल्के फुल्के हास्य के द्धारा यही मंत्र देती है प्रोडयूसर हर्षल भेडाने तथा निर्देशक मनोज शर्मा की फिल्म ‘ये है लॉलीपोप’ फिल्म एक तरफ लोगों को हंसाती है तो दूसरी तरफ इमोशन के साथ मैसेज भी देती है।

कहानी

मनोज जोशी एक कामयाब प्रोडयूसर है उसकी हर फिल्म दो सो करोड़ का बिजनेस करती है लिहाजा हर बार उसके यहां इन्कमटेक्स वाले आ धमकते हैं। उनसे बचने के लिये वो अगली एक सुपर फ्लॉप फिल्म बनाने का प्लान बनाता है। इसके लिये वो सबसे पहले एक फ्लाप राइटर ओम पुरी को तलाश करते हैं उन्हें लगता है कि वो बड़े बजट की फ्लॉप लिख कर देगा। ओमपुरी एक मॉल में विचरने वाले रीयल किरदारों पर एक स्टोरी लिखता है जिनमें राजपाल यादव जो सलेंडर सप्लायर है लेकिन मॉल में आकर लड़कियां छेड़ता है। संजय मिश्रा उसी मॉल में कभी सीबीआई तो कभी एटीएस तो कभी सीबीआई ऑफिसर बन कर घूमता रहता है । मॉल के रेस्तरां में बैठ हेंमत पांडे, मुकेश भट्ट नकली प्रडयूसर डायरेक्टर बन बकरा ढूंढते रहते है। टीकू तलसानिया का अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने का अड्डा वही मॉल है। चिराग ठक्कर वहां एक शॉप में शर्ट सप्लाई करता है तथा उस रेस्तरां को चलाती है षिल्पा आनंद। ये सारे किरदार ओमपुरी की स्टोरी के पात्र है। अंत में कहानी कंपलीट होती है और उनके भटके हुये मुख्य पात्र को ओमपुरी उसे सही रास्ते पर लाते हैं।

निर्देशन

फिल्म हंसी खुशी के माहौल से शुरू होती हैं कहानी के पात्रों की हरकतें दर्शक को हंसाती है। मध्यातंर के बाद फिल्म कुछ ऐसे मौड़ लेती है जो दर्शक के चेहरे पर गंभीरता लाने लगती है बाद में फिल्म सकारात्मक मैसेज वाले क्लाईमेक्स के साथ खत्म होती है। रीयल मॉल की लोकेशन तथा वहां विचरते किरदार वास्तविकता प्रदान करते हैं। प्रवीण भारद्वाज व राशीद खान का संगीत, गीत कथा को और मजबूत बनाते हैं। मनोज शर्मा ने सधे हुये निर्देशन के अलावा कथा पटकथा अच्छी होने के अलावा संवाद कितनी ही जगह ताली बजवाते हैं।

अभिनय

ओमपुरी, राइटर की भूमिका में जमते हैं। नया लड़का चिराग ठक्कर पहली फिल्म के हिसाब से ठीक काम कर गया, उसी प्रकार शिल्पा आनंद ने भी अच्छा काम किया है। लेकिन दर्शक को हंसाने में सबसे आगे रहे राजपाल यादव, हेमंत पांडे, मुकेश भट्ट, टीकू तलसानिया, व्रिजेश हीरजी तथा संजय मिश्रा। इनके अलावा मनोज जोशी, अंजली श्रीवास्तव, मिथलेश चतुर्वेदी, साक्षी रैना आदि कलाकार भी उल्लेखनीय रहे।

क्यों देखें

जाने माने कलाकारां की कॉमेडी देखने के लिये फिल्म देखी जा सकती है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये