योग उम्र को कम करने में मदद करता है!- शिल्पा शेट्टी

1 min


शिल्पा शेट्टी को अपूर्व फिट माना जाता है। और जब से उन्होंने योग को अपनाया है तब से वह चिर-परिचित सौंदर्य रूप से भी अत्यंत आकर्षक लगती हैं…। शिल्पा ने अपने जीवन के हर चरण में खुद को बदलने का प्रयास किया है और अब फिर से बदलने का फैसला किया है। उन्हें लगता है कि योग के माध्यम से यह सब संभव है।

मीडिया से बातचीत कर शिल्पा शेट्टी ने हमारे सवालों के जवाब दिए-

शिल्पा को लगता है कि योग से आप में हमेशा बदलाव की गुंजाइश रहती है पर टिप्पणी करते हुए शिल्पा कहती है- आप अपने आप को फिर से खोज सकते हैं। मैं खुद में एक बेहतर संस्करण लाने की कोशिश कर रही हूं। योग मन, शरीर और आत्मा के संरेखण में मदद करता है। एक प्रक्रिया है, आपको अनुशासित रहने की जरूरत है, यह भावनात्मक क्षमताओं को नियंत्रित करती है। मेरा पसंदीदा आसन सूर्य नमस्कार है। यह आपके शरीर को स्ट्रेच करने में मदद करता है और साथ ही आपके शरीर को एनर्जी, भी प्रदान करता है। सूर्य नमस्कार से आप महसूस करेंगे कि आपका रक्त आपकी नसों से बह रहा है और आप तरोताजा महसूस करते हैं और ऊर्जावान महसूस करते हैं।

कठिन समय महामारी, के बारे में बात करते हुए, आगे शिल्पा ने कहा- जो एक आपदा योग की तरह है, आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को नियंत्रण में रख सकता है, वह कहती हैं, हमें आपदा प्रबंधन मोड़ में आने की जरूरत है, मेरा मानना है कि मुश्किल समय से गुजरना-महामारी आपदा की तरह है। सौभाग्य से योग के अभ्यास से लोगों को उन लोगों के मुद्दों से निपटने में मदद मिली है जिन्होंने अपने प्रियजनों को खो दिया है।

दुख की बात है कि वे अंतिम संस्कार नहीं कर पाए। बहुत से लोग नहीं जानते कि वे चिंता और अवसाद से पीड़ित हैं जबकि कुछ इसे जानते हैं लेकिन प्रकट नहीं करना चाहते हैं, क्योंकि मानसिक बीमारी एक कलंक की तरह है। इसलिए वे खुलकर सामने नहीं आना चाहते। प्राणायाम से हम अपनी बीमारी को नियंत्रित कर सकते हैं। योग आपकी शारीरिक फिटनेस के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है।इस पैन्डेमिक को हम योग से हरा सकते है।

अधिक योग जोड़ने की वह सभी को सकारात्मक रहने की सलाह देती है- हमेशा सकारात्मक रहने की आवश्यकता है हम सभी को ”हमारा कोई नियंत्रण नहीं है कि 3 लॉकडाउन कब शुरू होगा… हम वर्तमान क्षण में जीना भूल गए हैं और भविष्य के बारे में योजना बनाने में बहुत व्यस्त हैं… मेरा मानना है कि हमें इस कठिन समय में सकारात्मक रहने की आवश्यकता है। निस्संदेह, नकारात्मक विचार हमारे अंदर रिसेंगे इसलिए योग अभ्यास अनिवार्य रूप से आपकी धारणा को बदल देता है।

उदाहरण के लिए जब मुझे कोई तर्क पसंद नहीं आता है, हालांकि मैं हमेशा मुस्कुराती रहती हूं, सामान्य स्थिति में वापस आने के लिए मैं कुछ समय के लिए कमरे से बाहर चली जाती हूं, परिस्थितियों का विश्लेषण करती हूं और थोड़ी देर के लिए सांस लेकर वापस आ जाती हूं। इससे मुझे ऐसी परिस्थितियों से निपटने में मदद मिलती है। मैं अंदर से सकारात्मक हूं लेकिन कई बार हमें खुद को संतुलित करने की जरूरत होती है। सांस लेना सबसे अच्छा तरीका है। हमेशा सकारात्मक रहने का यही मेरा रहस्य है।

वह आगे कहती हैं, “योग उम्र को उलटने में मदद करता है (मुस्कुराते हुए आप लोग इसे देख रहे हैं), और जीवन की गुणवत्ता भी बेहतर हो जाती है। यह हमारी प्रतिरक्षा और मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ाने का समय है जो हमें इन कठिन समय से निपटने में और मदद करेगा।”

शिल्पा शेट्टी अपने नियमित योगाभ्यास के साथ एक बहुत ही सरल आहार का पालन करती हैं- जिसके बारे में वह बताती हैं, “मेरा आहार बहुत सरल है। मैं आहार पर निर्भर नहीं हूं और न ही मैं 6 बार खाने के अभ्यास का पालन करती हूं, जब भी मुझे भूख लगती है तो मैं बस खा लेती हूं। हमें भारी नाश्ता करना चाहिए। एक अच्छे दोपहर के भोजन के बाद भी पर्याप्त कार्ब्स का सेवन बहुत आवश्यक है। कार्ब्स आपके शरीर को ऊर्जा प्रदान करते हैं।

कार्ब्स से आपको ऊर्जा मिलती है और प्रोटीन आपकी मांसपेशियों की मरम्मत करता है, फाइबर आपकी आंतों को साफ करता है, इसलिए आपके शरीर में इन तीनों तत्वों का समामेलन होना बहुत जरूरी है। तरल पदार्थ, आपको हाइड्रेटेड रखने की आवश्यकता है। पर्याप्त पानी पीना बहुत जरूरी है। आपका डिनर छोटा होना चाहिए। कुछ लोग तो पूरे दिन खाना नहीं खाते, लेकिन फिर रात के खाने में बहुत ज्यादा खा लेते हैं। खाने के बाद वे सीधे बिस्तर पर चले जाते हैं… वे देर से खाना भी खाते हैं। जितना हो सके आपको आराम करने की जरूरत है। और सोने से पहले अपने शरीर को अपने भोजन को पचाने की अनुमति दें। सोने से तीन घंटे पहले अपना भोजन खा लेना चाहिए।

शिल्पा का योग से परिचय तब हुआ जब वह सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित थीं, योग से मेरा परिचय योजनाबद्ध नहीं था। मैं सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित थी अतः मेरे फिजियोथेरेपिस्ट ने मुझे दिन में तीन बार भुजंगासन करने की सलाह दी। इससे आपको अपनी रीढ़ की हड्डी को मजबूत करने में मदद मिलेगी। फिर मैंने एक योग शिक्षक को बुलाया और इसे सीखने के लिए निकल पड़ी। योग से अचानक मेरा परिचय हो गया, जिससे यह शारीरिक विशेषताओं में बदल गया और यह वर्षों से एक जीवन शैली बन गया।

लोग इसके बारे में जानते थे, जब मैं बिग ब्रदर अटेंड करने गई… हमारे पास जिम नहीं था, मैं बहुत सारी ब्रीदिंग एक्सरसाइज करता था। हर कोई इसे लाइव देख रहा था इसलिए लोगों को एहसास हुआ कि मैं योग करता हूं। उस शो से बाहर आते ही मुझे ऑफर मिलन शुरू हो गये। योग ने मुझे मानसिक रूप से और शारीरिक रूप से लाभान्वित किया। जब आप योग करते हैं तो आपकी धारणा बदल जाती है। मैंने देखा कि मेरे अंदर बदलाव सचमुच 2 साल के भीतर आ गया।

योग भारत का है। मैं लोगों को इसका लाभ उठाने में मदद करने के लिए उत्प्रेरक हो सकती हूं..मुझे लगता है कि दुर्भाग्य से योग भारत का है लेकिन इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ावा मिला है- भारतीयों की तुलना में विदेशी योग विशेषज्ञ हैं। हमारे देश से योग का प्रतिनिधित्व करने वाला कोई नहीं है। आज के दिन से १३ साल पहले मुझमें योग का बीज बोया गया था। मैंने कुछ डीवीडी बनाई हैं मेरी डीवीडी अब तक लोकप्रिय विंटेज बन गई हैं।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये