ज़ी क्लासिक विनोद खन्ना को उनकी अंतिम फिल्म ‘एक थी रानी ऐसी भी’ के प्रीमियर के जरिए देगा श्रद्धांजलि

1 min


इस शनिवार यह चैनल लेजेंडरी एक्टर विनोद खन्ना की इस अंतिम फिल्म के जरिये उन्हें श्रद्धांजलि देगा 

भला एक कलाकार को श्रद्धांजलि देने के लिए उसकी कला को याद करने से बेहतर और क्या हो सकता है! पिछले हफ्ते गुरुवार को अंतिम सांस लेने वाले मशहूर एक्टर विनोद खन्ना ऐसे एक्टर थे जिनके काम को सारी इंडस्ट्री ने सराहा। अपने आकर्षक व्यक्तित्व और शानदार अदाकारी के साथ उन्होंने कई ऐसी फिल्में दीं जो हमेशा लोगों के दिलों में याद बनकर रहेंगी। ‘वो जमाना करे दीवाना’ की अपनी ब्रांड विचारधारा के साथ जी क्लासिक इस दिग्गज अभिनेता को श्रद्धांजलि अर्पित करने जा रहा है। इस शनिवार 6 मई को दोपहर 1 बजे जी क्लासिक पर उनकी अंतिम फिल्म ‘एक थी रानी ऐसी भी’ का वर्ल्ड टेलीविजन प्रीमियर किया जा रहा है। मशहूर अभिनेत्री हेमा मालिनी इस फिल्म में टाइटल रोल निभा रही हैं। फिल्म में सचिन खेड़ेकर और राजेश श्रृंगारपुरे भी महत्वपूर्ण भूमिकाओं में हैं।
यह फिल्म ‘राजपथ से लोकपथ पर’ नाम की किताब पर आधारित है, जिसे गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने लिखा है। इसमें राजमाता विजयाराजे सिंधिया के जीवन की कहानी है। विनोद खन्ना के निधन पर शोक जताते हुए मृदुला सिन्हा ने कहा, ‘‘यह यकीन करना मुश्किल है कि गुजरे जमाने के बेहतरीन अभिनेताओं में से एक विनोद खन्ना आज हमारे बीच नहीं हैं। उनकी यादगार अदाकारी हमेशा हमारे साथ रहेगी। उनकी अंतिम फिल्म थी ‘एक था राजा एक थी रानी’ जो हाल ही में रिलीज हुई है लेकिन मुझे इस बात का बेहद दुख है कि वे इसकी रिलीज नहीं देख पाए। मेरी किताब के आधार पर उनका किरदार बहुत महत्वपूर्ण है और वे हमेशा इस फिल्म को जल्द पूरा होते देखना चाहते थे।’’

Hema Malini, Vinod khanna

फिल्म के निर्देशक गुलबहार सिंह ने कहा, ‘‘हमने आखिरी बार दिसंबर 2016 में बात की थी जब मैंने उन्हें यह बताने के लिए कॉल किया था कि हमारी फिल्म को सेंसर प्रमाण पत्र मिल गया है। वे इस फिल्म को प्रमोट करना चाहते थे और दिल्ली में हुए प्रीमियर में भी आना भी चाहते थे। जब मुझे पता चला कि पिछले हफ्ते उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था तो मैंने उनके लिए फूल भेजे। उन्हें इस बात की खुशी थी कि हम यह फिल्म पूरी कर पाए।’’
फिल्म ‘एक थी रानी ऐसी भी’ राजमाता विजयाराजे सिंधिया के जीवन से जुड़ी वास्तविक घटनाओं की झलक प्रस्तुत करती है। इसमें उनकी जीवनशैली, उनका संघर्ष, जीत और हार, उनके विचार और आज के समय में इसके महत्व को दर्शाया गया है। बहुत कम राजनीतिक हस्तियां ऐसी हैं जिनकी जिंदगी इन दोनों दौर की चश्मदीद रहीं। ऐसी ही एक हस्ती हैं राजमाता विजयाराजे सिंधिया जो देश की आजादी से पहले आम आदमी के सपनों से प्रेरित थीं और आजादी मिलने के बाद जनता की नाउम्मीदी से प्रभावित हुइंर्। इससे उनके अंतर्मन पर गहरा असर पड़ा और फिर एक साधारण सी लड़की एक महान नेता में तब्दील हो गई।
देखिए विनोद खन्ना की अंतिम फिल्म ‘एक थी रानी ऐसी भी’, शनिवार 6 मई को दोपहर 1 बजे, ज़ी क्लासिक पर।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये