शाहरुख खान और काजोल की डीडीएलजे प्रतिमा का अनावरण लीसेस्टर स्क्वायर में होगा

1 min


• लंदन के लीसेस्टर स्क्वायर में एसआरके और काजोल की कांस्य प्रतिमा का अनावरण किया जाएगा

• यह प्रतिमा अब तक की सबसे लंबी चलने वाली हिंदी फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे (डीडीएलजे)’ के एक दृश्य की झलक दिखाएगी

• यह घोषणा फिल्म रिलीज होने की 25वीं वर्षगांठ मनाने हेतु की गई है

हार्ट ऑफ लंदन बिजनेस एलायंस ने आज खुलासा किया है कि लीसेस्टर स्क्वायर की ‘सींस इन द स्क्वायर’ फिल्म प्रतिमाओं की कड़ी में शामिल होने वाली सबसे नवीनतम प्रतिमा रोमांस के किंग शाहरुख खान और उनकी को-स्टार काजोल की होगी, जो उनकी फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ से ताल्लुक रखती है। यह यूके में स्थापित अब तक की पहली लॉन्ग-टर्म बॉलीवुड प्रतिमा होगी। इस प्रकार यह घोषणा इंडियन सिनेमा की सबसे पसंदीदा फिल्म डीडीएलजे की 25वीं वर्षगांठ पर मुहर लगाती है, साथ ही साथ यह घटना यशराज फिल्म्स के विशाल 50 साला जश्न के समय घटित हो रही है।

डेब्युटैंट आदित्य चोपड़ा द्वारा लिखी और निर्देशित की गई फिल्म डीडीएलजे ने बॉक्स ऑफिस के सारे रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए थे तथा यह हिंदी सिनेमा के इतिहास की अब तक की सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर फिल्मों में गिनी जाती है। यह अब तक की सबसे लंबे समय तक चलने वाली हिंदी फिल्म भी बन गई है! डीडीएलजे ने 10 फिल्मफेयर एवार्ड जीतकर (उस वक्त) भी रिकॉर्ड तोड़ा था और इस फिल्म ने अक्षरशः वैश्विक स्तर पर बॉलीवुड का चेहरा बदल कर रख दिया था।

यह फिल्म 4 करोड़ रुपयों के बजट में बनाई गई थी और इस ब्लॉकबस्टर ने 1995 के दौरान भारत में 89 करोड़ तथा ओवरसीज मार्केट से 13.50 करोड़ रुपए जुटाए थे। इस प्रकार 1995 में दुनिया भर से कुल 102.50 करोड़ रुपयों का कलेक्शन हुआ था! आज की इन्फ्लेशन के हिसाब से इस कलेक्शन को आंका जाए तो यह भारत से स्तब्धकारी 455 करोड़ और ओवरसीज टेरिटरीज से 69 करोड़ रुपए बैठता है, जो दुनिया भर से अद्भुत 524 करोड़ रुपए कमाने तक जा पहुंचता है!

अक्सर बॉलीवुड सिनेमा की रोमियो एंड जूलियट कही जाने वाली डीडीएलजे दो अप्रवासी भारतीयों- राज और सिमरन तथा किंग्स क्रॉस स्टेशन की एक ट्रेन से शुरू होकर पूरे यूरोप व भारत में फैली नियति की मारी उनकी लव स्टोरी है। प्रतिमा का अनावरण 2021 के वसंत में निर्धारित है। आयोजकों को उम्मीद है कि इसके सितारे खान और काजोल एक खास जश्न वाले समारोह में प्रतिमा का अनावरण करने हेतु वहां पहुंच सकेंगे।

इससे उपयुक्त लोकेशन कोई और हो ही नहीं सकती, क्योंकि लीसेस्टर स्क्वायर ही वह जगह है जहां डीडीएलजे के एक सीन में एक-दूसरे के लिए बिल्कुल अजनबी राज और सिमरन का पहली बार आमना-सामना होता है। संयोग देखिए कि इस सीन में स्क्वायर पर स्थित दो सिनेमाघर प्रमुखता से दिखाई देते हैं- राज व्यू सिनेमा के सामने नजर आता है जबकि सिमरन ऑडियॉन सिनेमा से होकर लीसेस्टर स्क्वायर से गुजरती दिखती है। इस सीन को सम्मान देते हुए नई प्रतिमा ऑडियॉन सिनेमा के बाहर पूर्वी टेरेस से सटा कर लगाई जाएगी। फिल्म में लंदन की जो अन्य लोकेशन दिखाई गई हैं, उनमें हॉर्सगार्ड्स एवेन्यू, हाइड पार्क, टॉवर ब्रिज और किंग्स क्रॉस स्टेशन शामिल हैं।

यह प्रतिमा बीते 100 साल के 9 अन्य फिल्म आयकंस में शामिल होगी, जिनमें से आठ का अनावरण बीती फरवरी में हुआ था और हाल ही में वेस्टमिनिस्टर काउंसिल ने इन्हें लंबे समय तक यहां लगे रहने की मंजूरी दे दी है; कम से जुलाई 2023 तक तो ये यहां बनी रहेंगी। सितंबर में हैरी पॉटर की एक प्रतिमा भी ओरिजिनल लाइन-अप में शामिल की गई थी, इसके अलावा यहां आगंतुक अब भी लॉरेल एंड हार्डी, बग्स बनी, सिंगिंग इन द रेन के जीन केली, मैरी पॉपिंस, मिस्टर बीन, पैडिंग्टन और आयकॉनिक डेटेक्टिव कॉमिक्स सुपरहीरो बैटमैन तथा वंडर वूमन का नजारा कर सकते हैं।

हार्ट ऑफ लंदन बिजनेस एलायंस के डाइरेक्टर ऑफ डेस्टिनेशन मार्केटिंग मार्क विलियम्स का कहना है : “अपनी प्रतिमाओं की कड़ी में शाहरुख खान और काजोल जैसे इंटरनेशनल सिनेमा के दिग्गजों को शामिल करना अद्भुत है। ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ अब तक की सबसे सफल और महत्वपूर्ण बॉलीवुड फिल्म है तथा एक लोकेशन के तौर पर लीसेस्टर स्क्वायर को सचमुच दिखाने वाली पहली फिल्म को इस कड़ी में शामिल करना बड़ा रोमांचक अनुभव है। यह प्रतिमा बॉलीवुड की वैश्विक लोकप्रियता तथा सांस्कृतिक खाइयां पाटने की सिनेमाई ताकत का एकदम उपयुक्त सम्मान है। इसमें कोई शक नहीं कि यह दुनिया भर के प्रशंसकों को आकर्षित करेगी।”

यशराज फिल्म्स में स्पेशल प्रोजेक्ट्स के वाइस प्रेसीडेंट अवतार पानेसर ने बात को आगे बढ़ाते हुए कहा- “आज से 25 साल पहले जब ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ रिलीज हुई थी तो इसने इंडस्ट्री का चेहरा बदल कर रख दिया था, और जिसने भी इसे देखा वह दिल लुटा बैठा। इस प्रतिमा के बारे में घोषणा करते हुए और ‘सींस इन द स्क्वायर’ में प्रतिनिधित्व करने वाली भारतीय मूल की पहली फिल्म होने के नाते हम रोमांचित हैं। हम गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं कि इन बॉलीवुड सुपरस्टारों को जीन केली, लॉरेल एंड हार्डी जैसे हॉलीवुड दिग्गजों के बराबर मान्यता दी गई है। सिनेमा की इंटरनेशनल अपील को अभिव्यक्त करने का यह एक असाधारण तरीका है।“


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये