देव साहब बालासाहेब ठाकरे को ‘बाल’ कहकर बुलाते थे

1 min


बालासाहेब

अली पीटर जॉन

60 और 70 के दशक में मुंबई में रहने वाला कोई भी व्यक्ति यह कहने का साहस नहीं कर सकता था कि उसने बालासाहेब ठाकरे का नाम नहीं सुना था। मैं उन लाखों लोगों में से एक था, जिन्होंने शिवाजी पार्क में उस आदमी की बात सुनी, जिसके शब्द लोगों के दिल और दिमाग को किसी भी तरह से हिला सकते थे, जो वह चाहते थे। वह लाखों लोगों के अविश्वसनीय, निर्विवाद और बेताज (अन्क्राउन्ड) महाराज थे लाखों लोग उन्हें सचमुच पृथ्वी पर भगवान का अवतार मानते थे।

जब मैंने शिवाजी पार्क या किसी अन्य स्थल पर उन्हें भाषण देते सुना, तो मैंने पूरे मन से उनकी प्रशंसा की। लेकिन जब उन्होंने “मुंबई बंद” को डिक्लेअर किया तो मुझे भी उनसे नफरत हो गई क्योंकि ‘बंद’ का वो दिन वही दिन था जब मुझे और लाखों अन्य लोगों को नाश्ते, चाय, दोपहर के भोजन और रात के खाने के बिना जीना था जब तक कि ‘बंद’ समाप्त नहीं हो गया था। और अगर कोई एक व्यक्ति था, जिसने ‘शेर’ की आलोचना की, तो वह देव आनंद थे, जो कभी उन्हें फ्री प्रेस जर्नल के लिए काम करने वाले एक कार्टूनिस्ट के रूप में जानते थे, एक महीने में 150 रुपये का वेतन लेते थे और देव ने मराठी मानूस के शक्तिशाली नेता के रूप में उन्हें विकसित होते देखा, लेकिन देव साहब ने हमेशा उन्हें ‘बाल’ कह कर बुलाया था।
ठाकरे भले ही भारत के सबसे शक्तिशाली नेताओं में से एक हो गए थे, लेकिन उन्होंने फिल्मों और सितारों के प्रति अपने आकर्षण को कभी नहीं खोया था।

बालासाहेब

ठाकरे ने अपना मराठी साप्ताहिक ‘मार्मिक’ शुरू की थी जिसे उनके द्वारा संपादित किया गया था और उसमे उनके द्वारा बनाए गए सभी कार्टून भी थे। अपने स्वयं के कई पाठकों के लिए उन्होंने अपने साप्ताहिक में फिल्म रिव्यु भी लिखे थे, जिन्हें कई लोगों ने पढ़ा था और कई लोगों ने आशंका भी जताई थी। फिल्मों के लिए उनका प्यार और उनमें काम करने वाले सितारे हालांकि मजबूत होते रहे, लेकिन अजीब बात है, उन्होंने भगवान (खुद) का डर भी सितारों में डाला।

उनकी 8वीं पुण्यतिथि के मौके पर, मुझे उनके कुछ सबसे बड़े सितारों के साथ उनके कुछ ब्रश याद हैं। मिथुन चक्रवर्ती के साथ उनका एक पिता और बेटे वाला रिश्ता था, जो उन्हें ‘डैडी’ कहते थे और वह ठाकरे परिवार के एक हिस्से की तरह थे। जब तक उनके ‘पिता’ और ‘बेटे’ के बीच कुछ गंभीर मतभेद थे और मिथुन ने मुंबई छोड़ने और ऊटी में अपना घर बसाने का निर्णय लिया।

अनुभवी खलनायक प्राण को एक बिल्डर के साथ कुछ गंभीर समस्याएं हो रही थीं, जो अभिनेता के बंगले पर कब्जा करने की कोशिश कर रहा था और अभिनेता उससे बहुत परेशान थे। मैं उसी दिन प्राण साहब से मिलने गया और उन्होंने मुझे अपनी समस्या के बारे में बताया। मैंने सिर्फ उनसे पूछा कि क्या उन्हें ईगो प्रॉब्लम है और उन्होंने अपना सिर हिलाया। मैंने उन्हें एम. टी खरे का नंबर दिया, जो कभी अमिताभ बच्चन के सचिव थे और उन्होंने खरे को फोन करके बताया कि वह ठाकरे से बात करना चाहते हैं। दो मिनट के भीतर, अभिनेता के चेहरे पर एक व्यापक मुस्कान थी और वह अपनी कार में थे और मातोश्री, बालासाहेब के घर की ओर जा रहे थे। और दो घंटे बाद अभिनेता ने मुझे यह बताने के लिए फोन किया कि उनकी समस्या हल हो गई है और मैंने जो उन्हें सलाह दी थी, उसके लिए उन्होंने मुझे धन्यवाद दिया। अगली सुबह प्राण साहब ने पूरे पेज के विज्ञापनों में बालासाहेब को धन्यवाद देते हुए बताया कि वे हिंदू हृदय सम्राट का धन्यवाद क्यों कर रहे हैं।

‘टाइगर’ जैसा कि वह अपने अनुयायियों (फोल्लोवेर्स) के बीच जाने जाते थे, उन्होंने अपने अनुयायियों को देव आनंद की फिल्म सौ करोड़ का बहिष्कार करने के लिए कहा था क्योंकि फिल्म में पाकिस्तानी अभिनेत्री फातिमा शेख थीं। देव आनंद जिनकी फिल्म दो दिन बाद रिलीज होनी थी, एक तय समय में और पहली बार जब से मैं उन्हें जानता था, मैंने उन्हें तब उदास देखा था। उन्होंने मुझे बताया कि ‘बाल’ ने उनकी फिल्मों का बहिष्कार करने की मांग की थी। दो बार सोचने बिना, मैंने उनसे कहा कि वह उसी फार्मूले का पालन करे जो मैंने प्राण साहब को करने की सलाह दी थी।

‘बाल’ ने देव साहब को मातोश्री आमंत्रित किया और देव साहब, जो आम तौर पर निमंत्रण स्वीकार नहीं करते थे, आसानी से मातोश्री गए थे, ठाकरे और उनके पूरे कबीले को उनके स्वागत के लिए गेट पर उनका इंतजार करते देखा गया जब देव साहब को दोपहर का भोजन करने के लिए कहा गया, तो उन्होंने सिर्फ गाजर खा के दोपहर का भोजन किया। देव साहब ने आखिरकार ठाकरे को उस भाषण के बारे में बताया जो उन्होंने उनकी फिल्म के बारे में बोला था और ठाकरे ने कहा, “देव साहब, वो सब हमारी पॉलिटिक्स है, तुम नहीं समझोगे, कल मैं सामना में पहले पेज पर लिखता हूँ की मेरे से गलती हो गई, अभी आप आराम से जाइए।”

ठाकरे कई अन्य फिल्मी हस्तियों की मदद के लिए आगे आए थे लेकिन उनके लिए सबसे महत्वपूर्ण अमिताभ बच्चन थे। उन्होंने ‘मुंबई बंद’ होने पर अमिताभ के विदेश जाने की व्यवस्था की थी और शिवसेना एम्बुलेंस में अमिताभ के लिए हवाई अड्डे तक पहुँचना संभव कर दिया था। उनकी दोस्ती अंत तक बनी रही और जब ठाकरे लीलावती अस्पताल में अपने मृत्युशैया (डेथ बेड) पर थे, तब अमिताभ एकमात्र बाहरी व्यक्ति थे जिन्हें उन्हें देखने की इजाजत दी गई थी। संयोग से राम गोपाल वर्मा की ‘सरकार’ का सीक्वल मोटे तौर पर ठाकरे के चरित्र पर आधारित था। और अंत में नवाजुद्दीन सिद्दीकी द्वारा निभाई गई उनके चरित्र के साथ उनके जीवन पर बनी एक पूरी फीचर फिल्म भी थी।

मुझे याद आया कि कैसे वह रामानंद सागर के धारावाहिक ‘रामायण’ की सफलता का जश्न मनाने के लिए ‘द लीला’ में आयोजित एक समारोह में मुख्य अतिथि थे और वह इस बात की परवाह नहीं करते थे कि लोग क्या कहेंगे और अपने पसंदीदा हेनेकेन जर्मन बीयर पी रहे थे और अपने पसंदीदा सिगार भी ले रहे थे और कैसे उन्होंने डॉ वी.शांताराम को अपनी श्रद्धांजलि देने से इनकार कर दिया था जब उन्हें अंग्रेजी में बोलने के लिए कहा गया था।

और सबसे ज्यादा याद किया जाने वाला दृश्य आज भी मेरे जेहन में ताजा है, जिसमें वह और यश चोपड़ा शामिल हैं। अभिनेत्री अश्विनी भावे ने ‘आहुति’ नाम की मराठी फिल्म का निर्माण किया था और ब्रॉडवे मिनी थिएटर में एक स्पेशल स्क्रीनिंग रखी गई थी। जब यश चोपड़ा पहुंचे थे और मुझसे बात कर रहे थे, जब कई ब्लैक कैट्स हथियारों से लैस होकर चल रहे थे और यश चोपड़ा भयभीत दिख रहे थे। मामले को और खराब बनाने के लिए, ठाकरे ने यश की तरफ देखा और कहा, “क्या रे यश, हम लोग का मराठी फिल्म कभी बनाएगा?” मैंने यश चोपड़ा को इतना डरते और हकलाते हुए कभी नहीं देखा था और वह इंटरवल के दौरान बाहर चले गए थे, लेकिन मुझे यह बताने से पहले नहीं कि वह अपने पुरे जीवन में कभी इतना नहीं डरे थे।

यदि इंडस्ट्री का कोई वर्ग ऐसा था जो उनसे सबसे अधिक प्यार करता था, तो यह वे वर्कर्स थे जिन्हें यकीन था कि उनके पास एक नेता था जो उनकी आवाजों को सुन सकता था और उनकी शिकायतों को सुधारा जा सकता था और निवारण करता था। हिंदू हृदय सम्राट जैसे प्रेम और प्रशंसा में थे, वैसा ही नफरत और भय में भी थे।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये