बच्चन साहब के पास ऐसे तो बहुत सारे टोटके हैं, लेकिन वो मानते है कि, दुआ से ही दिन, दिल, दशा और दिशा बदल सकते हैं!

| 15-05-2022 5:30 AM 2

अली पीटर जाॅनउन दिनों अमिताभ बच्चन एक दिन में दो पालियों में शूटिंग करते थे, एक सुबह 7 बजे से शुरू होकर दोपहर 2 बजे तक और दूसरी दोपहर 3 बजे से शुरू होकर रात 10 बजे या उनसे भी आगे तक चलती थी। वह अपने माता-पिता के साथ ‘प्रतिक्षा‘ में रह रहे थे। उन्होंने ‘प्रतिक्षा‘ के भीतर एक मंदिर बनाया था और मंदिर में प्रार्थना करने से पहले कभी भी अपना घर नहीं छोड़ा, चाहे वे कितने भी व्यस्त हों। एक सुबह मैं उनके माता-पिता डॉक्टर हरिवंश राय बच्चन और तेजी के साथ बैठा था। अमिताभ बहुत जल्दी में थे और गेट से बाहर निकल गए, लेकिन उनकी मां ने उन्हें ‘‘मुन्ना, इतनी जल्दी भी क्या है?‘‘ कहकर पुकारा। फिर माता-पिता के पैर छुए और उनके बाद ही अपनी शूटिंग के लिए रवाना हुए। इस तरह उनके माता-पिता ने उन्हें प्रशिक्षित किया था और उन्होंने उनकी शिक्षाओं का पालन तब तक किया जब तक वे जीवित थे और अभी भी उनकी शिक्षाओं का पालन करते हैं और अभिषेक, ऐश्वर्य और परिवार को अपने माता-पिता की शिक्षा का पालन करने के लिए कहते हैं।अमिताभ का एक छोटा-सा मंदिर तब भी था जब वे ‘मंगल‘ नामक भवन में एक अपार्टमेंट में रहते थे और वहां हर सुबह और रात प्रार्थना करते थे। वह गीता को हृदय से जानते थे और किसी भी समय उनके श्लोकों का पाठ कर सकते थे। उनके पास अभी भी ‘जलसा‘ और यहां तक कि उनके कार्यालय में ‘‘जनक‘‘ नामक बंगले में मंदिर है और जुहू अजंता होटल में उनके एबीसीएल कार्यालय में देवी-देवताओं की तस्वीरें थीं। वह मूल रूप से एक बहुत ही ईश्वर-भयभीत व्यक्ति रहे हैं और मानते हैं कि हजारों लोगों द्वारा पालन किए जाने वाले सभी अंधविश्वासों और प्रथाओं की तुलना में प्रार्थना अधिक अद्भुत काम कर सकती है। वह तत्काल देवताओं और देवी-देवताओं द्वारा दिए गए आकर्षण और प्रलोभनों के लिए नहीं गिरे हैं। वह सभी धर्मों और वास्तव में पवित्र लोगों का सम्मान करने में विश्वास करते हंै, लेकिन भगवान और केवल भगवान का अनुसरण करते हैं। उन्होंने एक बार मुझसे कहा था,. ‘‘दुआ से पहाड़ो को भी मारा जा सकता है और सूखे में बारिश भी बरसाई जा सकती है। दुआ नहीं होती तो हम जैसे भगवान के बंदे कैसे कुछ मांगते भगवान से और भगवान को कभी होता है। हाथ जोड़ दुआ माँगते, तो दुनिया में दर्द, मुश्किल और हार नहीं होती। मेरा ख्वाब है कि एक दिन वो भी आए जब हम सब घुटनो पर गिर कर दुआ मांगे‘‘। मैंने अमिताभ को इतने पवित्र, धार्मिक और दार्शनिक तरीके से बोलते हुए कभी नहीं सुना था। लेकिन फिर वह हमेशा ‘‘गुस्से में जवान आदमी‘‘ और ‘‘ईश्वर के एक समर्पित व्यक्ति‘‘ की तरह रहे हैं .....अमिताभ की असली परीक्षा तब हुई जब वह बैंगलोर में उस दुर्घटना से मिले। यह एक ऐसा समय था जब उन्हें भगवान के आदमी और अंधविश्वास के आदमी होने के बीच एक कठिन लड़ाई का सामना करना पड़ा था। सभी धर्मों के हजारों लोगों ने उनके शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना की और अमिताभ के जीवन को बचाने के लिए उनके पास भगवान से भीख मांगने का अपना तरीका था। यह सब तब शुरू हुआ जब अस्पताल में नन और पुजारी गंभीर रूप से घायल होने पर उन्हें पहले भर्ती कराया गया और उनके लिए प्रार्थना करने लगे। प्रार्थनाओं का सिलसिला तब तक जारी रहा जब उन्हें गंभीर हालत में बॉम्बे के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया। यह केवल ईसाई प्रार्थना के साथ ही नहीं रुक गया, बल्कि लोग हर मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और यहां तक कि दूरदराज के स्थानों और दुनिया के विभिन्न कोनों में पूजा स्थलों में उनके अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना कर रहे थे। एक तरफ जहां प्रार्थनाएं होती थीं और दूसरी तरफ लाखों लोग होते थे जिन्होंने हर तरह की कुर्बानी दी और यहां तक कि अंतहीन मात्रा में रक्त भी दिया, यहां तक कि छोटे लड़के और लड़कियां भी अपने विभिन्न ऑपरेशनों के लिए रक्तदान करने के लिए अस्पताल के बाहर लाइन में खड़े थे। और उनके विभिन्न अंगों और इंद्रियों की और वसूली के लिए। बड़े-बड़े निर्माता और कारोबारी लोग किलोमीटर तक चले और यहां तक कि सिर और हाथ के बल भी चले। एक निर्माता एस रामनाथन बिना रुके सात घंटे तक अपने सिर के बल कुएं के चारों ओर घूमते रहे। एक युवक अहमदाबाद से ब्रीच कैंडी अस्पताल गया और उनके सिर पर नारियल रखा हुआ था और ब्रीच कैंडी पहुंचने तक उन्हें सीधा रखा। अस्पताल के बाहर विभिन्न धर्मों के हजारों पुजारी थे जिन्होंने उनके लिए प्रार्थना की। अस्पताल में उनका अतिथि कक्ष सभी प्रकार के मोतियों के तावीज और अन्य प्रकार के प्रसाद से भरा हुआ था, जिनके बारे में उनका मानना है कि वे उन्हें बचा सकते थे।और अंत में डॉ फारुख उदवाडिया, डॉ जयंत बर्वे और डॉ शाह जैसे डॉक्टरों ने ही उनकी जान बचाई। और अमिताभ अभी भी मानते हैं कि अलौकिक तत्वों ने उनके जीवन को बचाने में भूमिका निभाई हो, लेकिन अंततः दवा और डॉक्टरों के प्रयासों ने उन्हें बचाया। अमिताभ के पूरी तरह से ठीक होने के एक महीने बाद, उन्होंने अपने ‘सर‘ रामनाथन की सलाह का पालन किया और व्यक्तिगत रूप से सभी ज्ञात और अज्ञात धर्मों के हर पवित्र स्थान का दौरा किया और सभी देवताओं के प्रति अपना आभार व्यक्त किया। और अमिताभ के पास सभी तावीजों से भरा एक पूरा कमरा था और हर तरह की पवित्र वस्तु जो उन्हें भेजी जाती थी या उनके लिए उनके प्रशंसकों और यहां तक कि उनके प्रतिद्वंद्वियों से जो उनके प्रशंसक बन गए थे। मुझे नहीं पता कि प्रतीक्षा में जो कमरा कीमती और पवित्र माना जाता था, उसे अब भी उनके नए घर ‘‘जलसा‘‘ में जगह मिलती है या नहीं। अमिताभ बच्चन है तो सिर्फ लोगों की दुआओं से बाकी सब इत्तेफाक बाकी सब जो हुआ है, वो या तो इत्तेफाक है या चमत्कार होगा।