राज कपूर अब्बास साहब को उनकी आत्मा की आवाज मानते थे

| 19-01-2022 5:30 AM No Views

-अली पीटर जॉनकभी-कभी दो आदमी आपस में मिल सकते हैं और इतिहास रच सकते हैं। एक दूसरे के लिए कई तरह से योगदान कर सकते हैं और वे तरीके कई अन्य पुरुषों को रास्ता दिखा सकते हैं.... और महिलाएं। के ए अब्बास ने पहले ही एक ज्वलंत पत्रकार, लेखक और फिल्म निर्माता के रूप में अपना नाम बना लिया था और राज कपूर ने ‘‘आग‘‘ और ‘‘आह‘‘ जैसी अपनी शुरूआती फिल्में बनाई थीं। मुझे नहीं पता कि वे कैसे और कब मिले थे, लेकिन मुझे यकीन है कि वे पृथ्वीराज कपूर के माध्यम से मिले थे, जिन्होंने अन्य लेखकों और गीतकारों को भी अपने बेटे से मिलवाया था। लेकिन, कुछ तो रहा होगा, कुछ चिंगारियाँ जो दो आदमियों के मिलने पर उड़ी होंगी। उन्होंने एक साथ काम करने का फैसला किया, जो उस समय अब्बास साहब के नियमों के खिलाफ था जब उन्होंने केवल अपने लिए फिल्में लिखने का मन बना लिया था।दोनों दोस्त नियमित रूप से मिलते थे और आजादी के तुरंत बाद देश में क्या हो रहा था, इसके बारे में कहानियों और कहानियों का आदान-प्रदान करते थे और अब्बास साहब ने युवा राज कपूर को जो कहानियां सुनाईं, उनके दिमाग में आग लग गई और उन्होंने अब्बास साहब और अब्बास साहब की कहानियों पर आधारित फिल्मों का निर्देशन करने का फैसला किया। इस असाधारण साझेदारी के परिणामस्वरूप ‘‘आवारा‘‘ और ‘‘श्री 420‘‘ जैसी फिल्में आईं, जो साधारण कहानियां थीं लेकिन समय के लिए प्रेरक और प्रासंगिक थीं। फिल्मों को राज कपूर ने एक निर्देशक के रूप में अपने तरीके से शूट किया था, लेकिन उन्होंने कभी नहीं अब्बास साहब ने जिस भावना से पटकथाएं लिखीं, विशेषकर संवादों को छोड़ दिया। ‘‘आवारा‘‘ न केवल भारत में बल्कि कई देशों में, विशेष रूप से सोवियत रूस जैसे देशों में एक सनक बन गई थी। और श्री 420 के साथ, राज कपूर एक पंथ व्यक्ति के रूप में विकसित हुए, एक ऐसा आंकड़ा जिन्होंने उन्हें बहुत कम सितारों की तरह सुर्खियों में लाया। राज कपूर जानते थे कि उनकी दोनों फिल्में साधारण फिल्में होतीं, अगर यह अब्बास साहब के शक्तिशाली, संवेदनशील और ईमानदार लेखन के लिए नहीं होती, जिन्होंने दुनिया भर में ट्रैम्प (मोटे तौर पर चार्ली चैपलिन से प्रेरित) की छवि बनाई थी। अब्बास साहब की पटकथाएं राज कपूर को प्रेरित करती रहीं और उन्होंने अब्बास साहब से कभी भी संपर्क नहीं खोया, यहां तक कि जब वे ‘‘जिस देश में गंगा बहती है’’ और ‘‘संगम‘‘ जैसी फिल्में बना रहे थे।लेकिन जब वह अपने जीवन के बारे में एक अर्ध आत्मकथात्मक फिल्म बनाना चाहते थे, तो वे के ए अब्बास के अलावा किसी अन्य लेखक के बारे में नहीं सोच सकते थे। ‘‘मेरा नाम जोकर‘‘ की पटकथा लिखते समय दो दोस्तों ने पुरुषों की तरह काम किया, जो तीन भागों में बनने वाली थी और कुछ प्रमुख सितारों ने अतिथि भूमिका निभाई और राज कपूर के पसंदीदा, शंकर - जयकिशन और शैलेंद्र के साथ - संगीत के प्रभारी हसरत जयपुरी। दोस्तों ने तो पूरे मन से फिल्म बनाई थी, लेकिन रिलीज के पहले दिन उनका दिल टूट गया, जब दर्शकों ने पहले दिन पहले शो से बाहर कर दिया। फिल्म फिर से जीवंत नहीं हो सकी और राज कपूर को लगा कि यह उनके लिए अंत है। उनका स्टूडियो गिरवी रख दिया गया था, उनकी संपत्ति जर्जर हो गई थी और सबसे बढ़कर, उनकी प्रतिष्ठा को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया था। वह एक दिवालिया आदमी थे और आर के फिल्म्स के लिए कोई भविष्य नहीं देखा। उन्होंने भारी शराब पी ली और आत्म-विनाश की एक तस्वीर थी। और एक सुबह, वह अपनी रचनात्मक प्रगति में वापस आ गये और उनके दिमाग में जो पहला नाम आया वह था केए अब्बास।उसी सुबह, वह अपने दोस्त और महाप्रबंधक श्री बिबरा के साथ अब्बास साहब के कार्यालय में गये, जिसका कार्यालय जुहू के पुराने भवनों में से एक की 5 वीं मंजिल पर था और वहां कोई लिफ्ट नहीं थी। राज और मिस्टर बिबरा सभी पाँचों मंजिलों पर चले गए और राज को साँस लेने में कठिनाई हो रही थी। अब्बास साहब ने अपने पुराने दोस्त पर एक नजर डाली और चिल्लाये ‘‘तुमको मेरे ऑफिस में शराब पीकर आने की हिम्मत कैसे हुई, तुम राज कपूर होगे, लेकिन मेरे ऑफिस में तुम्हारा राज नहीं चलेगा। निकल जाओ मेरे ऑफिस से‘‘। और अब्बास साहब चिल्ला रहे थे, राज कपूर हाथ जोड़कर खामोश खड़े थे। अब्बास साहब ने उनसे पूछा कि वह उनसे क्या चाहते हैं और राज कपूर की आंखों में आंसू आ गए जब उन्होंने अब्बास साहब से कहा, ‘‘मैं बर्बाद हो गया अब्बास साहब, मुझे बचा लो।  छोटे बेटे, चिंटू को मैं हीरो बनाना चाहता हूं। मेरे लिए कोई लव स्टोरी लिखिए, बहुत मेहरबानी होगी‘‘। लगता है अब्बास साहब अपना गुस्सा भूल गए हैं और उन्होंने राज कपूर को एक हफ्ते बाद फिर से मिलने के लिए कहा, लेकिन नशे में नहीं। बिगड़े हुए लड़के की तरह सीढ़ियों से नीचे उतरे राज कपूर...राज कपूर अगले हफ्ते शांत होकर वापस आए, ऊपर अब्बास साहब ने उन्हें एक अमीर हिंदू परिवार के एक युवक और एक मछुआरे की बेटी की कहानी सुनाई, जो एक गोवा की ईसाई है। राज कपूर उत्साहित थे और उन्होंने अब्बास साहब से कहा कि वे फिल्म बना रहे हैं जो भी हो सकता है। उन्होंने जो फिल्म बनाई वह थी ‘‘बॉबी‘‘ जिन्होंने आरके फिल्म्स, राज कपूर और उनकी प्रतिष्ठा को एक नया जीवन दिया। अब्बास साहब को राज कपूर के लिए दो और फिल्में लिखनी थीं, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। जिस दिन अब्बास साहब की मृत्यु हुई, राज कपूर जुहू में कब्रिस्तान गए (जहां जुलाई 2021 में दिलीप कुमार को दफनाया गया था)। राज कपूर एक बच्चे की तरह रोये और कहा, ‘‘मुकेश की मृत्यु के समय मैंने अपनी आवाज खो दी थी, अब मैंने अपने विवेक की आवाज खो दी है‘‘ राज कपूर भी कुछ ही समय में मर गए। और उन दो दोस्तों की कहानी हमेशा के लिए याद किए जाने के लिए ही खत्म हो गई। यह एक बहुत ही असामान्य संयोजन था। अब्बास साहब शराब और धूम्रपान से नफरत करते थे और राजकपूर इसके विपरीत थे, लेकिन उनका अलग स्वाद फिल्मों के प्रति उनके प्यार और इसके लिए आवश्यक कड़ी मेहनत के आड़े नहीं आया। राज कपूर ने अब्बास साहब जो लिख रहे थे उनका ट्रैक रखा क्योंकि उनका दृढ़ विश्वास था कि अगर अब्बास साहब ने उनके लिए एक स्क्रिप्ट लिखी तो ही वह ऐसी फिल्म बना सकते हैं जो समझ में आए और मनोरंजन भी करे।जब बॉबी को एक बड़ी हिट घोषित किया गया, तो राज कपूर ने अपनी रचनात्मक टीम को बिल्कुल नई एंबेसडर कारों के साथ गिफ्ट किया और व्यक्तिगत रूप से अब्बास साहब को एक कार भेंट करने आए, जो राज कपूर के अनुरोध पर अनिच्छा से पांच मंजिलों से नीचे आए। उन्होंने कार की चाबी अब्बास साहब को सौंप दी और उनसे कहा, आज से ये गाड़ी आपकी है। ये अशफाक है आपका ड्राइवर, इसकी पगार और पेट्रोल का पैसा आरके देगा ‘‘जब राज कपूर ने फिर से हाथ मिलाया और अब्बास साहब से कहा,‘‘ मेरी एक ही अनुरोध है, आप कभी भी इस गाड़ी को बेचना मत। आप का क्या बोल सकता हूं, इस गाड़ी को बेचकर आप एक अपनी फिल्म भी बना सकते हैं।‘‘ अब्बास साहब के घर के पीछे एक छोटी सी जगह थी जिन्हें उन्होंने गैरेज में बदल दिया था। जिन्होंने अब्बास साहब को मेरी पहली पुस्तक ‘‘वॉयस इन टर्मोइल‘‘ के विमोचन में भाग लेने के लिए अपनी नई कार लेते हुए देखा, जिनका विमोचन समारोह मेरे स्कूल (होली क्रॉस हाई स्कूल, कुर्ला) के हॉल में आयोजित किया गया था। कार्यकत्र्ता है, लेकिन हम हमेशा बेस्ट बस से यात्रा करते हैं। वह अब्बास साहब थे और कोई दूसरा अब्बास साहब कभी नहीं हो सकते। अंत तक दो दोस्तों के बारे में बात करते हुए, मुझे उनके एक बयान की याद आती है जिनमें उन्होंने कहा था, ‘‘अगर मैंने बॉबी या राज कपूर की अन्य कृतियों को निर्देशित किया होता, तो वे पूरी तरह से फ्लॉप हो जाती। यही निर्देशक की प्रतिभा है जिसे कहा जाता है राज कपूर अब्बास साहब अपने जीवन के अंत में बहुत अस्वस्थ थे और राज कपूर हमेशा उनके स्वास्थ्य के बारे में पूछताछ करते थे और यदि कोई आवश्यकता हो तो। अब्बास साहब की मृत्यु के बाद, उनके इलाज के बिलों का भुगतान करने वाले राज कपूर या अमिताभ बच्चन को लेकर एक शर्मनाक बहस हुई। राज कपूर अपनी कहानी बताने के लिए नहीं हैं और मुझे लगता है कि अमिताभ को इसके बारे में बात करना शर्मनाक लगता है।कल खेल में हो ना हो वो और उनकी कहानी हमेशा याद रहेगी