अमर, अद्भुत, अविस्मरणीय और अमृत लता को श्रद्धांजलि की क्या जरूरत है? लेकिन अगर श्रद्धांजलि दिल से हो तो क्या कहने

| 16-02-2022 5:30 AM 5

(एक अच्छे कलाकार, अशोक हांडे की लताजी को पहली संगीतमय श्रद्धांजलि)-अली पीटर जॉनपिछले 72 वर्षों के दौरान मेरे जीवन के हर दिन की तरह, मुझे नहीं पता था कि नया दिन (12 फरवरी, 2022) मेरे लिए कैसा होने वाला था, मेरे लिए क्या आश्चर्य और क्या झटके थे, और मैंने शुरू किया दिन के दौरान मेरी यात्रा पर ......मेरे दोस्त, कोंकणी फिल्मों के जाने-माने निर्देशक और लेखक हैरी फर्नांडीस ने मुझे यह बताने के लिए फोन किया कि वह मुझसे मिलने आ रहे हैं और उनके पास उनके दोस्त की कार है। कार ने मुझे याद दिलाया कि मैंने प्रिया दत्त को उनके नए रेस्तरां को देखने का वादा किया था, जहां उनके पिता सुनील दत्त का कार्यालय एक बार सनराइज नामक इमारत में था। हमने न केवल पुस्तकालय देखा, बल्कि एक शानदार फारसी दोपहर का भोजन भी किया और मुझे राहत मिली जब मुझे बताया गया कि बिल का भुगतान पहले ही किया जा चुका है। सुनील दत्त और नरगिस दत्त की बेटी की ओर से यह एक दयालु इशारा ही हो सकता था…तब हैरी ने मुझे बताया कि उनके पास लता मंगेशकर के लिए एक विशेष ‘श्रद्धांजलि‘ के लिए चार मुफ्त पास हैं, जो उसी शाम प्रसिद्ध षणमुखानंद हॉल में आयोजित किया जाएगा। मैं इस तरह के निमंत्रण को कैसे मना कर सकता था? मैं उनके साथ जाने को तैयार हो गया।मैं लगभग दस वर्षों के बाद षणमुखानंद हॉल देख रहा था, लेकिन इनके बारे में कुछ भी नहीं बदला था, यहां तक कि भीड़ भी उतनी ही उत्साहित थी जितनी उन अच्छे पुराने दिनों में हुआ करती थी। यह एक बहुत ही असामान्य शो था। कोई टिकट नहीं बेचा गया था, लेकिन यह अभी भी एक हाउसफुल शो था जिसमें शो से दो दिन पहले पास वितरित किए गए थे। मुझे आश्चर्य हुआ कि क्या लताजी के संगीत और गीतों के कारण हाॅल भरा हुआ था या क्या इस देश और यहां तक कि इस दुनिया में चलने वाले सबसे महान गायिका को श्रद्धांजलि देना था.....मुझे अपने सारे उत्तर तब मिले जब महाराष्ट्र के जाने-माने रंगमंच व्यक्तित्व अशोक हांडे ने संस्कृत (?) और अगले चार घंटों के लिए हांडे और उनकी टीम ने दर्शकों को इंदौर में उनके जन्म से लेकर खोलापुर और पूना में उनके शुरुआती दिनों तक और फिर पूरे ब्रह्मांड में सबसे महान जीवन में से एक में ले लिया। यह एक सुरों का गाथा का वास्तविक रूप से जीवंत होना था जो कि महारानी और स्वरसजनी का जीवन था।लताजी को सम्मान और गौरव दिलाने के अशोक हांडे के प्रयास उतने सार्थक नहीं होते, जितने कि उनकी कुछ महिला गायकों के लिए नहीं होते जिन्हें उन्होंने ‘हमारी लताएं‘ कहा था। मैं उनके सभी नामों को याद न रखने का दोषी हूं, लेकिन मुझे अभी भी मृदुला वारियर नाम की एक लड़की की प्रशंसा करनी चाहिए, जो मूल रूप से केरल की थी, लेकिन जो लताजी को एक जादुई और चमत्कारी श्रद्धांजलि थी। जब प्रतिभा की बात आती है तो मुझे पक्षपात करना कभी पसंद नहीं आया और इसलिए मैं उन सभी महिला गायिकाओं और उस एक पुरुष गायक और सभी संगीतकारों को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने संगीत, माधुर्य और जादू के कई युगों को एक साथ जीवंत किया। उस रात लताजी ने अशोक हांडे और उनकी टीम के प्रति कृतज्ञता का गीत गाया होगा। मुझे यकीन है कि लताजी के आने के लिए और भी कई श्रद्धांजलि होंगी, लेकिन हांडे और उनकी टीम की श्रद्धांजलि मेरे लिए सबसे पहली और सर्वश्रेष्ठ होंगी।ऐसे तो लताजी को ना तो श्रद्धांजलि न तो अदारजंलि की जरूरत है। लेकिन अगर देनी ही हो तो ऐसे हो जैसे उस रात हांडे और उनकी लतायें भी।