कभी-कभी लगता है खुदा भी बेरहम होता है, नहीं तो वो दिलीप कुमार का ऐसा हाल क्यों करता? और अब वो सुर कोकिला लता मंगेशकर के साथ ऐसा सुलूक क्यों कर रहा है?

| 26-01-2022 5:30 AM 2

-अली पीटर जॉनमैंने कुछ सबसे सम्मानित, प्रतिभाशाली और लोकप्रिय हस्तियों को महान शैली में रहते हुए देखा है, जबकि वे अपनी युवावस्था में हैं और उनके साथ देवी-देवताओं की तरह व्यवहार किया जाता है और जब वे खेल से बाहर हो जाते हैं और जीवन के खेल को आगे बढ़ाया जाता है। एक कोने में जहां उन्हें एक ऐसा जीवन जीने के लिए छोड़ दिया जाता है जो कोई जीवन नहीं है और फिर धीरे-धीरे एक ऐसी जगह पर चला जाता है जिसे कहीं नहीं कहा जाता है। मैंने इसे बेहतरीन सितारों, निर्देशकों, लेखकों, संगीतकारों और तकनीशियनों के साथ होते देखा है। लेकिन मैंने अभी भी किंवदंतियों से परे एक किंवदंती नहीं देखी है जैसे दिलीप कुमार अपने जीवन के अंतिम दस वर्षों के लिए अपनी पत्नी सायरा बानो के साथ अकेले रह गए, जिनके बाद एक उपनगरीय अस्पताल में उनकी मृत्यु हो गई, देश को उनकी मृत्यु के घंटों के बाद पता चला। मर गये और जुहू कब्रिस्तान में एक साधारण कब्र में दफनाये गये... वह वास्तव में शांति से आराम कर रहे होंगे जहां भी वह शांति पाने के लिए गये हो...और उनकी ‘‘बहन‘‘ (छोटी बहन) लता मंगेशकर भी प्रभु कुंज में अपने छोटे से कमरे में पांच साल से अधिक समय से लेटी हुई हैं, जो बुढ़ापे के साथ होने वाली सभी बीमारियों और पीड़ाओं से गुजर रही हैं। 8 जनवरी, 2022 को उन्होंने कोविड के लिए सकारात्मक विश्राम किया और उनका परिवार उन्हें ब्रीच कैंडी अस्पताल ले गया, जहां वह भर्ती होने के बाद से आईसीयू में पड़ी है। ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों और अस्पताल के कर्मचारियों को उनके स्वास्थ्य के बारे में ब्योरा नहीं देने का निर्देश दिया था। लेकिन, उनका ईलाज कर रहे डॉक्टर डॉ प्रीत समदानी ने सभी को सूचित किया है कि भारत रत्न धीरे-धीरे ठीक हो रही हंै, लेकिन अभी भी उनकी उम्र (92) और किसी भी समय उत्पन्न होने वाली जटिलताओं के कारण आईसीयू में रखा गया है। उनका परिवार डॉक्टरों के लगातार संपर्क में हैं, लेकिन उनकी ‘‘दीदी‘‘ के पास जाने के बहुत कम अवसर हैं। वह उम्र से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं से भी पीड़ित है, लेकिन डॉक्टरों को उम्मीद है कि वह ठीक हो जाएगी। कोकिला ज्यादातर समय सोने और भक्ति संगीत सुनने में बिताती है।उनके दिल और दिमाग में कौन से विचार और यादें चल रही होंगी, और कौन सी छवियां उनकी आंखों के सामने से गुजर रही होंगी, और संगीत की कौन सी आवाजें उन्हें वह खुशी दे रही होंगी, जिनके लिए वह अपने जीवन के सर्वश्रेष्ठ वर्षों को जीने और देने के बाद इतनी समृद्ध रूप से योग्य है। वह पहले प्यार, संगीत और उस दुनिया के लिए जिनका वह अस्सी से अधिक वर्षों से एक सच्चा रत्न है। वह एकमात्र ऐसी किंवदंती होनी चाहिए जो दुनिया की सभी किंवदंतियों के लिए एक किंवदंती रही हो। लताजी, आपने हमको इतना कुछ दिया है। हम आपको हमारी दुआएं के शिवा और क्या दे सकते हैं?