Birthday Special: उर्मिला मातोंडकर का फिल्म से लेकर राजनीति तक का सफर

| 04-02-2022 5:30 AM 3

4 फरवरी 1974 को जन्मी उर्मिला मातोंडकर का बॉलीवुड में शानदार करियर रहा है। उन्होंने हिंदी, तमिल, तेलुगु, मलयालम और मराठी सिनेमा में लोकप्रियता हासिल की। उर्मिला ने पर्दे पर पहली बार बाल कलाकार के रूप में 1977 की फिल्म 'कर्म' में काम किया। वह 'मासूम' में भी दिखाई दीं जिसके लिए उनकी प्रशंसा भी की गई थी । कमल हासन के साथ मलयालम फिल्म 'चाणक्यन' में उर्मिला की पहली बार मुख्य भूमिका में नज़र आई।उर्मिला मातोंडकरउर्मिला ने कुछ समय के ब्रेक के बाद फिल्मों में वापसी की और रोमांटिक ड्रामा 'रंगीला' के साथ बॉलीवुड में अभिनेत्री के रूप में खुद को स्थापित किया।उर्मिला मातोंडकरइसके बाद उन्होंने कई फ़िल्में जैसे की सत्या,जोबसूरत ( 1999), और जंगल (2000) में नजर आईं। उर्मिला ने सिल्वर स्क्रीन पर कमाल का प्रदर्शन किया। वह कई रियलिटी टीवी शो में भी दिखाई दी हैं। उर्मिला मातोंडकर ने 27 मार्च 2019 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुई। वह 2019 के लोकसभा चुनाव में मुंबई उत्तर निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ीं, लेकिन हार गईं। 10 सितंबर 2019 को, उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया।उर्मिला मातोंडकरइसके बाद उन्होंने 1 दिसंबर 2020 को, पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे की उपस्थिति में शिवसेना में शामिल हो गई।

उर्मिला मातोंडकर के बारे में अधिक जाने:

4 फरवरी 1974 को मुंबई में जन्मी मासूम और खूबसूरत बॉलीवुड एक्ट्रेस उर्मिला मातोंड़कर को एक ऐसी एक्ट्रेस के तौर पर जाना जाता है कि जिन्होंने अपने बोल्ड अभिनय से ब‌िंदास अभिनेत्री के रूप में दर्शको के बीच अपनी पहचान बनायी है। उर्मिला ने 1984 में मुम्बई से टेंथ पास की थी और पिछले साल यानि 3 मार्च 2016 में इन्होंने कश्मीर-बेस्ड बिजनेसमैन और मॉडल मोहसिन अख्तर मीर से शादी कर ली थी।

उर्मिला मतोड़कर ने अपने करियर की शुरूआत वर्ष 1981 में प्रदर्शित फिल्म कलयुग से बतौर बाल कलाकार के रूप में की। इसके बाद उर्मिला मातोंड़कर को शेखर कपूर की वर्ष 1983 में प्रदर्शित फिल्म।इस फिल्म में उनपर फिल्माया यह गीत “लकड़ी की काठी। काठी पे घोड़ा” बच्चों के बीच आज भी लोकप्रिय है। इस बीच उर्मिला मातोंड़कर ने छोटे पर्दे के लिये कुछ सीरियलो में भी काम किया। वर्ष 1989 में उर्मिला मतोड़कर को कमल हसन के साथ मलयालम फिल्म चाणक्य में काम करने का अवसर मिला। वर्ष 1991 में प्रदर्शित फिल्म नरसिम्हा के जरिये उर्मिला मतोड़कर ने बॉलीवुड में अपने करियर की शुरूआत की।

वर्ष 1995 में प्रदर्शित फिल्म रंगीला उर्मिला मतोड़कर के करियर के लिये महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुयी। राम गोपाल वर्मा के निर्देशन में बनी इस फिल्म में उर्मिला मतोड़कर ने एक डांसर की भूमिका निभायी थी। इस फिल्म में उर्मिला मे अपोजिट आमिर खान थे।इस फिल्म के लिये वह सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये नामांकित की गयी। उसके बाद इन्होंने  दौड़, सत्या, कौन, मस्त, भूत, प्यारतूने क्या किया, जंगल, एक हसीना थी, फिल्मे दी है। इसके अलावा उर्मिला ने राम गोपाल वर्मा की फिल्म कंपनी और राम गोपाल वर्मा की आग में आइटम नंबर भी किया है।

वर्ष 1997 में प्रदर्शित फिल्म जुदाई उर्मिला मतोड़कर के करियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुयी और इस फिल्म के लिये उर्मिला को सर्वश्रेष्‍ठ सहायक अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये नामांकित भी किया गया । वर्ष 1999 में प्रदर्शित फिल्म कौन और वर्ष 2001 में प्रदर्शित फिल्म प्यार तूने क्या किया में उर्मिला मतोड़कर का किरदार पूरी तरह से नेगेटिव था जिसके लिए उर्मिला को सर्वश्रेष्‍ठ खलनायक के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये नामांकित की गयी।

वर्ष 2003 में प्रदर्शित फिल्म भूत में अपने दमदार अभिनय के लिये उन्हें फिल्म फेयर की ओर से सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेत्री का क्रिटिक्स पुरस्कार दिया गया। वर्ष 2008 में प्रदर्शित फिल्म कर्ज में उर्मिला मतोड़कर ने एक बार फिर से नेगेटिव किरदार निभाया।इस फिल्म में उनका किरदार 80 के दशक में बनी फिल्म कर्ज में सिम्मी ग्रेवाल के निभाये किरदार से प्रेरित था। उर्मिला मतोड़कर ने ह‌िंदी फिल्मों के अलावा तमिल, तेलगु और मलयालम फिल्मों में काम किया है। 2014 में इनकी आखरी मराठी फिल्म 'आजोबा' थी ।