सलमान खान को एक मुकदमें में बॉम्बे हाई कोर्ट ने दी राहत! महीने भर के लिए मिली अदालत में आने से छूट। जानिए पूरा मामला क्या है?

| 06-04-2022 5:30 AM No Views

-शरद रायसलमान खान का अदालतों से रिश्ता बड़ा पुराना है। फिर एक नए केस में उनके उलझने की चर्चा होना कोई नई घटना नहीं है। लेकिन, हर बार जैसे उनको राहत मिल जाया करती है, एक बार फिर उनको बॉम्बे हाई कोर्ट ने कुछ समय की राहत दे दिया है। उनका एक केस जो 2019 का था, उनपर asult, abuse & criminal antimidation का आरोप है। एक पत्रकार अशोक पांडे ने उनपर ऐसे आरोप लगाए हैं। इस केस में उनको मुम्बई की अंधेरी की मेट्रोपालिटन कोर्ट में 5 अप्रैल को उपस्थित होना ही था कि बॉम्बे हाई कोर्ट ने उनको वह एक बार फिर महीने भर की राहत दे दिया हैं।जानिए पूरा केस क्या है:सलमान खान को सायकल चलाने का शौक है, यह सब जानते हैं।वे कभी कभी अपनी शूटिंग पर जब फुरसत में होते हैं, सायकल चलाने लगते हैं। ऐसा ही एक मौका था जब वह एक पत्रकार पर नाराज हो गए  थे। आरोपों के अनुसार सलमान खान की साइकिलिंग का वीडियो एक पत्रकार अपने मोबाइल फोन से शूट कर रहा था, सलमान ने पत्रकार को शूट करते देख लिया। सलमान ने मना किया और उनके एक  बॉडी गॉर्ड ने पत्रकार से मोबाइल फोन छीन लिया था।आरोप के अनुसार उनके बीच जिरह हुई होगी पत्रकार ने डीएन नगर पोलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराया था। अंधेरी मेट्रोपोलिटन कोर्ट ने सलमान को उसी केस में प्रत्यक्ष हाज़िर रहने का  सम्मन जारी किया था।सलमान के वकील अबद पोंडा ने मामले को हाइकोर्ट में पेश किया और हाइकोर्ट ने सलमान को उपस्थित होने के लिए आगामी 5 मई तक कि छूट दे दिया यह कहते हुए मकई पत्रकार अपनी नई हलफनामा दाखिल करें। एक दूसरी मेट्रोपोलिटन कोर्ट ने भी सलमान को 9 मई तककि राहत दिया है। यानी-सलमान को अदालत में न आने के लिए एक महीने की पूरी राहत मिल गयी है।हालांकि केस में कई विविधता है।जैसे पोलिस स्टेटमेंट और पत्रकार की कोर्ट को दी गयी विशेष अर्जी आदि को लेकर सलमान के वकील पोंडा और पत्रकार के वकील एजाज़ नकवी ने अपने अपने तर्क पेश किए हैं। ipc की धारा 504 (शांति भंग करने के इरादे से अपमानित करना) और धारा 506 (अपराधिक इरादे से धमकी देना) के तहत क्या आरोप सिद्ध हो पाते हैं, यह अलग मुद्दा है। फिलहाल सलमान खान को अंधेरी कोर्ट में हाज़िर होने के आदेश को रोक कर उच्च न्यायालय ने सलमान खान को अदालत में न आने की फौरी राहत दे दिया है।