आज़ाद टीवी और MX प्लेयर पर सीरियल 'छोटकी छटंकी' का जलवा

| 20-04-2022 5:30 AM 16

-राकेश दवेहिंदी सीरियलों में अक्सर महिलाओं के संस्कारी रूपों को पेश करने‌ कोशिश की जाती है। सीरियलों में अक्सर दिखाया जाता है कि कैसे लड़कियों के‌ माता-पिता जैसे-तैसे समृद्ध घरों में अपनी बेटियों की शादी करने के लिए बेहद उतावले रहते हैं, फिर चाहे लड़के में कितने ही ऐब क्यों ना हों। पैसेवाले लड़के के साथ लड़की की शादी करना ही घरवालों का सबसे बड़ा मक़सद होता है और ऐसे में ससुराल में रहनेवाली लड़कियों को तरह-तरह के अत्याचरों से गुज़रना पड़ता है।इसी पृष्ठभूमि को आधार बनाकर एक सीरियल का निर्माण किया गया है जिसका नाम है 'छोटकी छटंकी' जिसका प्रसारण आज़ाद टीवी और MX प्लेयर पर 18 अप्रैल से शुरू हो चुका है। इस सीरियल से जुड़ी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन मुम्बई के मड इलाके के सिमरन बंगले में किया गया, जहां सीरियल से जुड़े तमाम लोग मौजूद थे।सीरियल 'छोटकी छटंकी' में टाइटल किरदार में सुप्रिया कुमारी नज़र आएंगी जो बेहद मशहूर रहे सीरियल 'बैरी पिया' से घर-घर लोकप्रिय हुई थीं। सुप्रिया इसके अलावा 'अगले जनम मोहे बिटिया ही कीजौ', 'लुटेरी दुल्हन' जैसी कई सीरीयल्स में भी नज़र आ चुकी हैं। उल्लेखनीय है कि सीरियल में सुप्रिया कुमारी तीन बहनों में सबसे छोटी बहन के रोल मे नज़र आएंगी। वो सीरियल में एक बहुत ही चंचल और मदमस्त लड़की के किरदार में हैं। बड़ी बहन यानि बड़की के रोल में नज़र आएंगी पायल जायसवाल, तो वहीं मंझली बहन के रोल में दिखाई देंगी प्रगति मिश्रा।गांववाला कॉन्सेप्ट स्टूडियोज़ के बैनर तले बने इस सीरियल का निर्माण धनंजय सिंह मासूम ने किया है। इस सीरियल के निर्देशन की ज़िम्मेदारी गौरव प्रेम श्री के हाथों में हैं तो वहीं एपिसोड डायरेक्टर का ज़िम्मा विकास श्रीवास्तव को सौंपा गया है। सीरियल में सीनियर एक्टर सागर सैनी, अश्लेषा सिंह ,सिद्धार्थ धवन, अपाला बिष्ट, अभीक बैनर्जी, विवेक श्रीवास्तव, शिवन सिंह, प्रशांत श्याम, गौरेश खाले और निशांत जैसे सशक्त कलाकार भी अहम भूमिकाओं में नज़र आएंगे।प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद एक्टर सुप्रिया कुमारी ने अलहदा किस्म के अपने रोल के बारे में कहा, 'वैसे मैं ख़ुद झारखंड से हूं तो मुझे किरदार की भाषा को लेकर तो किसी तरह की कोई दिक़्क़त पेश नहीं आई। मुझे कहा गया था कि सीरियल में मेरा रोल चार्ली चैप्लिन की तरह है, जो बहुत ही चंचल और शरारती किस्म का किरदार है। ऐसे में मैंने अपने रोल की तैयारी करने के लिए कई कार्टून शोज़ भी देखे जिससे मुझे अपना रोल निभाने में काफ़ी मदद हासिल हुई।'सीरियल के‌ निर्माता धनंजय मासूम कहते हैं, 'पैसेवाले दूल्हे और समृद्ध परिवार में शादी कराने के चक्कर में लड़कियों को ससुराल में काफ़ी कुछ झेलना पड़ता है। इस सीरियल में हमने यही बताने की कोशिश की है कि माता-पिता को पैसे के बदले में योग्य वर ढूंढने पर ध्यान देना चाहिए ताकि लड़की शादी के बाद ससुरसल में सुखी रहे।'बिहार को पृष्ठभूमि बनाकर लिखे गये सीरियल 'छोटकी छटंकी' के लेखक प्रियम झा कहते हैं, 'देश तेज़ी से बदल रहा है, मगर बहुत सारी ऐसी चीज़ें भी हैं जो अब तक नहीं बदली हैं। बिहार विसंगतियों को प्रदेश है, जहां भूत, भविष्य और वर्तमान सभी कुछ देखने को मिल जाएगा और मैंने इन्हीं विसंगतियों को इस सीरियल के माध्यम से पेश करने की कोशिश की है।'