लोग आज भी मुझे 'कहानी घर घर की' के 'ओम' के रूप में पहचानते हैं- किरण करमरकर

| 30-07-2022 12:24 PM 14
People still recognize me as Om of Star Plus popular show Kahaani Ghar Ghar Ki- Kiran Karmarkar

किरण करमरकर फिल्म एवं टेलीविजन इंडस्ट्री में एक जाने माने अभिनेता हैं. किरण मुख्यतः: स्‍टार प्‍लस के शो कहानी घर घर की के अपने किरदार ओम अग्रवाल के नाम से पहचाने जाते हैं. अपने दर्शकों के मनोरंजन लिए स्टार प्लस एक बार फिर 'कहानी घर घर की' शो लेकर आ रहा है। इस बारे में किरण करमरकर से हुई ख़ास बातचीत के कुछ प्रमुख अंश:

People still recognize me as Om of Star Plus popular show Kahaani Ghar Ghar Ki- Kiran Karmarkar

आपके फेमस शो 'कहानी घर घर की' के रीरन को लेकर आपको कैसा महसूस हो रहा है? 

मुझे खुशी है कि हमारा शो दोबारा वापसी कर रहा है, जिसे इस 2 अगस्त से, हर सोमवार से रविवार, 3:30 से 4:30 बजे तक दर्शक इसे अपने टेलीविजन स्क्रीन पर रोज़ाना देख पाएंगे. मेरे लिए यह बहुत गर्व की बात है कि हमारा शो आज भी लोगों को याद है और यह अब 14 साल बाद नैशनल टेलीविजन पर वापसी कर रह है. इस शो के दोबारा शुरुआत की इससे अच्छी कोई और जगह नहीं हो सकती थी. यह शो मेरी पहचान का एक हिस्सा बन गया है. लोग आज भी मुझे 'कहानी घर घर की' से 'ओम' के रूप में पहचानते हैं. मुझे इसका हिस्सा बनकर बहुत अच्छा लग रहा है और इसकी वापसी देखना दिलचस्प होगा, जिसने भारतीय टेलीविजन इंडस्ट्री में इतिहास बना दिया.

पहले और अब में आप टेलीविजन इंडस्ट्री में क्या बदलाव देखते हैं? 

एक दशक पहले सब कुछ बहुत अलग था, अभिनय, शूट पैटर्न, तकनीक और यह अब की तुलना में थोड़ी धीमी गति से हुआ करती थी. कहानी बहुत सरल हुआ करती थी और शो बिल्कुल अपने शीर्षक के अनुसार हुआ करता था.

अपने दोस्तों और परिवार के साथ शो देखने की कोई योजना है? इसके अलावा, क्या आप अभी भी अपने कलाकारों के संपर्क में हैं?

अभी तक कोई योजना नहीं है. हम में से अधिकांश अभी भी संपर्क में हैं, हम एक-दूसरे से कभी-कभी मिलते भी हैं. अभी भी साक्षी तंवर और अली असगर के साथ मेरा बॉन्ड बहुत अच्छा है. ग्लैमरस होना पहले इतना लोकप्रिय नहीं था. पहले सब कुछ इतना आसान लगता था और अब यह सभी के लिए एक बहुत ही जबरदस्त अनुभव है. इसलिए, मुझे लगता है कि इसने हमें व्यक्तिगत स्तर पर जोड़ा और दोस्ती का ऐसा अटूट बंधन बनाया है. मैं अली असगर को साल 1996, से जानता हूँ और अब लगभग हमारी दोस्ती को 3 दशक हो गए हैं. हमें नहीं पता था कि 'कहानी घर घर की' के बाद हमें इतनी पहचान मिलेगी. 

People still recognize me as Om of Star Plus popular show Kahaani Ghar Ghar Ki- Kiran Karmarkar

इस शो ने आपके जीवन को किस प्रकार बदला है?

शो के ऑन-एयर होने के 2 से 3 महीनों के बाद, हम लगभग हर जगह पहचाने जाने लगे. क्षेत्रीय चैनलों के प्रमुख होने और उनके अपने क्षेत्र के बीच लोकप्रियता हासिल करने के चलते मनोरंजन इंडस्ट्री अब बहुत बदल गई है. उस समय, अधिकांश दर्शक हमारे शो को देख रहे थे और इसकी टीआरपी संख्या 15 तक बढ़ गई थी. आजकल, लोग टीआरपी रेटिंग के साथ 2 साल तक चलने वाले शो का जश्न मनाते हैं, जो टीआरपी रेटिंग सबसे अधिक 3 तक पहुँचती है. मैं समझता हूं कि यह कड़े कॉम्पिटिशन के चलते है लेकिन रामायण, महाभारत या कसौटी जिंदगी जैसे शोज का हमने खूब आनंद लिया.

कहानी घर घर की शो में 'ओम अग्रवाल' का किरदार निभाने के बाद आपके जीवन में क्या बदलाव आया? 

एक बार मैं भोपाल हवाई अड्डे पर था और मेरे साथ एक फिल्म-स्टार भी वहां मौजूद थे और वहां मौजूद फैन्स मेरा स्वागत कर रहे थे. मैंने मन ही मन सोचा कि यह शख्स जो मेरे लिए स्टार है लेकिन फैन्स मेरा ऑटोग्राफ लेने की जद्दोजहद में लगे हैं तब मुझे यह समझ आया कि  मैं भी उनके लिए स्टार हूं. तभी मुझे एहसास हुआ कि शो कितना बड़ा हो गया है, लेकिन यह नहीं पता था कि यह आज भी सभी को इतना ही पसंद है. 

कलाकार और शो दोनों को आजकल ऑडियंस कुछ समय बाद भूल जाती है इसपर आपका क्या कहना है? 

आज कई शो और कई विकल्प उपलब्ध हैं. इनके प्रचार भी बहुत उच्च स्तर के और ग्लैमरस हो गए हैं. 1990 के दशक में, यह अब की तरह नहीं हुआ करता था. लेकिन अब यह फिल्में, वेब-सीरीज और टेलीविजन जीवन शैली का एक हिस्सा है.

People still recognize me as Om of Star Plus popular show Kahaani Ghar Ghar Ki- Kiran Karmarkar

आज के टेलीविजन कॉन्टेंट के बारे आपका क्या कहना है?

पहले से और बहुत ज्यादा लुभावने कॉन्टेंट अब दर्शकों को देखने को मिल रहे हैं वो भी कई अलग- अलग प्लेटफार्म के चुनाव के साथ जैसे टीवी, वेब सिरीज इत्यादि. मैंने कई शोज को बंद होते देखा है इसके शुरू होने के 3 महीने बाद भी, इसलिए आजकल 2 साल तक किसी शो का चलना बहुत बड़ी बात है. तब हम बालाजी प्रोडक्शन की बिल्डिंग के सिंगल फ्लोर पर शूटिंग करते थे. हमारे पास कोई बड़ा सेट नहीं था जैसा कि अब है.

'ओम अग्रवाल' की भूमिका के लिए बालाजी प्रोडक्शन ने आपसे कैसे संपर्क किया? 

मुझे बालाजी के साथ काम करने का पूर्व अनुभव था. इसलिए, जब उन्होंने मुझसे संपर्क किया, तो उन्होंने रामायण को ध्यान में रखते हुए मुझे मॉडर्न राम की भूमिका निभाने को कहा. मुझे भी यह किरदार बहुत पसंद आया और मैंने उनके प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और अब इस शो ने दर्शकों के दिल में एक बड़ी जगह बना ली है.

क्या आपने शो के बाद किसी अन्य अभिनेता की तरह संघर्ष का अनुभव किया?

संघर्ष एक ऐसी चीज है जो किसी भी कलाकार के जीवन से कभी गायब नहीं होती है. मुझे 'कहानी घर घर की' के कारण बहुत लोकप्रियता मिली, जिसकी तुलना कुछ हद तक एक फिल्म में काम करने वाले अभिनेताओं से की जाती थी. शो ने मेरे जीवन को मेरे सुधार के लिए बदल दिया और मैं कहूंगा कि यह शो हमेशा मेरे पूरे जीवन का एक यादगार सफर रहेगा. 

People still recognize me as Om of Star Plus popular show Kahaani Ghar Ghar Ki- Kiran Karmarkar

आपको क्या लगता है कि दर्शकों को एक नए कलाकार के साथ के साथ लौटना कैसा लगता है? 

मुझे लगता है कि लोग अभिनेता को उनके चरित्र से व्यक्तिगत स्तर पर जोड़ते हैं और अगर कोई वही भूमिका निभाता है, यहां तक कि नए कॉन्सेप्ट और एक अलग कहानी के साथ भी, लोग हमेशा उनकी तुलना पुरानी कहानी और कलाकारों से करेंगे. जिसका समय कुछ समय बाद शो और उसकी सफलता पर असर पड़ेगा. यह हमेशा एक जुआ होता है जब आप एक शो को फिर से बनाते हैं जिसे इतने सारे लोग पसंद करते हैं. इसलिए, मुझे लगता है कि विरासत को जीवित रखा जाना चाहिए. 

प्रशंसकों के साथ कोई यादगार किस्सा जो आपके साथ हमेशा रहा?

मुझे याद है कि एक फ्लाइट में एक आदमी ने मुझसे संपर्क किया था, जिसने मुझसे मेरे शो का समय बदलने के लिए कहा था क्योंकि उसकी पत्नी शो की कहानियों में इतनी तल्लीन थी कि वह उसे खाना खिलाना लगभग हमेशा भूल जाती थी. इससे मुझे एहसास हुआ कि इस शो को पसंद करने वाले लोगों के दैनिक जीवन पर इसका कितना प्रभाव पड़ा. मुझे यकीन है कि लोग उन दिनों को फिर से याद करने के लिए फिर से टेलीविजन स्क्रीन पर इकट्ठा होंगे.

अपने चहीते शो 'कहानी घर घर की' को देखें इस 2 अगस्त से, हर सोमवार से रविवार को दोपहर 3:30 से 4:30 बजे तक, केवल स्टार प्लस पर.