2023 से 2025 में 10 फीचर फिल्मों का होगा सह-निर्माण

| 03-12-2022 1:00 PM 15
golden ratio films

विस्टास मीडिया कैपिटल’ की सामग्री निर्माण और वितरण सहायक शाखा ‘‘गोल्डन रेशियो फिल्म्स’’ ने 10 फिल्मों के निर्माण के लिए दक्षिण भारतीय फिल्म प्रोडक्शन हाउस ‘‘इनोवेटिव फिल्म अकादमी’’ के साथ साझेदारी पर हस्ताक्षर किए है. इस ऐतिहासिक सौदे पर आईएफएफआई गोवा, फिल्म बाजार में हस्ताक्षर किए गए, जो भारतीय सिनेमा का सबसे प्रमुख मंच है, जो दक्षिण एशियाई फिल्म परियोजनाओं और अंतरराष्ट्रीय फिल्म समुदायों के बीच सहयोग की सुविधा प्रदान करता है.


ईफए मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र में कौशल विकास के लिए एनएफडीसी के साथ जुड़ा है. उसने एनएफडीसी को इन 10 फीचर फिल्मों को गोल्डन रेशियो फिल्मों के साथ सह-निर्मित करने का प्रस्ताव दिया है. गोल्डन रेशियो फिल्म्स फिल्मों के लिए सह-निर्माण भागीदार होगा और वैश्विक अपील के साथ सिनेमा बनाने के लिए सामग्री निर्माण और विपणन में अपना अनुभव प्रदान करेगा.


 इस नए विकास पर अपने विचार साझा करते हुए ‘गोल्डन रेशियो फिल्म्स’ के अध्यक्ष अश्विन चौधरी ने कहा- “गोल्डन रेशियो फिल्म्स में हम हमेशा ऐसा सिनेमा बनाने की कोशिश करते हैं,जो एक स्थायी छाप छोड़ता है. हम अपनी फिल्मों के माध्यम से कहानियों को बताने में विश्वास करते हैं, और इन कहानियों में एक ऐसी भाषा, व्याकरण, उच्चारण और भावना है जो लोगों को इस तरह से आकर्षित करती है जो उन्हें आपके नियमित, व्यावसायिक सिनेमा से नहीं मिलती है. क्षेत्रीय भाषाओं में भारतीय फिल्मों को विश्व स्तर पर स्वीकार किए जाने के साथ, हमारे पास ऐसी कहानियां गढ़ने का एक बड़ा मौका है जो सभी को रुचिकर लगे. मैं इन 10 परियोजनाओं को सक्षम करने के लिए आईएफएफआई गोवा के लोगों को धन्यवाद देना चाहता हूं, और मुझे उम्मीद है कि हम ऐसी फिल्में बना सकते हैं जो एक छाप छोड़ेंगी, भाषा की सीमाओं को पार करेंगी और दुनिया भर के दर्शकों से जुड़ेंगी.’’

दस फिल्मों के समझौते के बारे में ‘विस्तास मीडिया कैपिटल’ के सह-संस्थापक और ग्रुप सीओओ पीयूष सिंह ने कहा-“विस्टास मीडिया कैपिटल में हमने हमेशा ऐसा सिनेमा बनाने की कोशिश की है,जिसमें वैश्विक अपील हो. हम नियमित रूप से इसे एक्सप्लोर करना चाहते हैं और उन कहानियों में निवेश करना चाहते हैं,जो दर्शकों पर गहरी छाप छोड़ती हैं, और आई एफ ए के साथ यह 10-फिल्म डील हमें इसे हासिल करने में मदद करेगी. फिल्म का परिदृश्य बदल गया है, और दर्शक भाषा के बावजूद नए अनुभवों के लिए खुले हैं. यह देखते हुए कि हमारे पास क्षेत्रीय भाषाओं में कहानियों का इतना समृद्ध गुलदस्ता है, यह साझेदारी दर्शकों को एक समृद्ध सिनेमा अनुभव प्रदान करने की दिशा में काम करेगी और मैं इसका हिस्सा बनने के लिए उत्साहित हूं’’. 


साझेदारी के बारे में बात करते हुए इनोवेटिव फिल्म अकादमी के संस्थापक, निदेशक श्रवण प्रसाद ने कहा- “जब फिल्मों की बात आती है तो दक्षिण बहुत जीवंत और कल्पनाशील होता है. हम हमेशा अपने पात्रों के साथ प्रयोग करते हैं, और हम अपनी कहानियों के साथ काफी साहसी और उत्साही हैं. हमारे साथ जीआरएफ पार्टनर होने से हर जॉनर में जबरदस्त सिनेमा का निर्माण होगा, जिसका दर्शकों द्वारा आनंद लिया जाएगा, चाहे भाषा कोई भी हो.’’