'मैं कुछ भी कर सकती हूँ' का गणतंत्र दिवस पर होगा प्रीमियर 

| 22-01-2019 4:30 AM No Views

महिलाओं, पुरुषों और नौजवानों पर असर डालने वाले दो दमदार सीज़न्स के बाद, पॉपुलेशन फाउंडेशन ऑफ़ इंडिया का लोकप्रिय एडूटनमेंट शो 'मैं कुछ भी कर सकती हूँ' डीडी नेशनल पर अपने तीसरे सीज़न के साथ वापसी करने के लिए तैयारहै. यह शो 26 जनवरी से हर शनिवार और रविवार शाम 7:30 बजे दिखाया जायेगा . शो के तीसरे सीज़न के साथ स्वच्छता, स्वास्थय रक्षा व परिवार नियोजन जैसे मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने के साथ, मैं कुछ भी कर शक्ति हूं एक स्वस्थ भारत के लिए एकरास्ता बनाता है जो इस गणतंत्र दिवस से शुरू होगा।

पॉपुलेशन फाउंडेशन ऑफ़ इंडिया की कार्यकारी निर्देशक पूनम मुटरेजा कहती हैं,'देश की आधी आबादी होने के बावजूद आज भी महिलाएं संघर्ष कर रही है. लेकिन वे बेबस नहीं है. हम जानते है कि वे अपने परिवार और समाज के साथसाथ अपने जीवन कोभी बदल सकती है. डॉ. स्नेहा माथुर आगामी सीज़न में अधिक मुद्दों से निपटने के लिए तैयार हैं'।

मशहूर निर्देशक फ़िरोज़ अब्बास ख़ान, जो इस शो के निर्माता हैं, कहते हैं,'लोगों के जीवन पर पड़ा  प्रभाव ही मैं कुछ भी कर सकती हूँ की सच्ची सफलता हैं. बिना बदलाव के उम्मीद करना अव्यावहारिक है। वास्तव में एक बदलाव लाने की दिशा में कार्यकरना। इस गणतंत्र दिवस, डॉ. स्नेहा एक नए आंदोलन का नेतृत्व करेंगी'।

'मैं कुछ भी कर सकती हूं' एक युवा डॉक्टर, डॉ. स्नेहा माथुर की प्रेरक यात्रा है, जो मुंबई में अपने आकर्षक करियर को छोड़ देती है और अपने गांव में काम करने का फैसला करती है. यह शो सभी के लिए स्वास्थ्य सेवाकी बेहतरीन गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए डॉ. स्नेहा के प्रयास पर केंद्रित है. उनके नेतृत्व में, गाँव की महिलाएँ सामूहिक एक्शन के ज़रिए अपनी आवाज़ उठा रही हैं. दूसरे सीज़न में महिलाओं के साथ युवाओं परविशेष ध्यान दिया गया था. नए स्लोगन,मैं देश का चेहरा बदल दूंगी, के साथ, शो की नायक डॉ. स्नेहा माथुर स्वच्छता तक पहुंच सहित नए मुद्दों को सामने लाने की योजना बना रही है. यह शो प्रसिद्ध फिल्म और थिएटरनिर्देशक फिरोज अब्बास खान द्वारा बनाया गया है।

 इस बार, पॉपुलेशन फाउंडेशन ऑफ़ इंडिया ग्रामीण विद्युतीकरण निगम (आरईसी) और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा समर्थित है. इनके द्वारा ही इस लोकप्रिय एडूट्नमेंट शो के बहुप्रतीक्षित तीसरे सीजनका प्रोड्क्शन किया जा रहा है।