तब्बू और निर्देशक विशाल भारद्वाज की घातक जोड़ी जल्द ही नेटफ्लिक्स पर

| 04-09-2022 4:00 PM 31

भारद्वाज से इतनी प्यारी तारीफ पाकर कि वह हमेशा साथ काम करने का कारण ढूंढते हैं, तब्बू उत्साह से कहती हैं, ‘‘क्या मुझे विशाल जी से इससे बेहतर और बड़ी तारीफ मिल सकती है?‘‘


तब्बू के उर्दू भाषा के संवादों में बहुत स्पष्ट भाषा है, उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद लोगों को प्रशिक्षित किया और विशाल को उनके द्वारा अपडेट किए गए डिक्शन के लिए वहां रहने का श्रेय दिया, “ विशाल मुझे ठीक करने के लिए हैं, वह हमेशा मुझे डबिंग शुरू करने से पहले निर्देश देंगे-तब्बू वो नुक्ते का ख्याल रख लेना नुक्तों का ध्यान रखें, गुलजार साहब और विशाल जी के साथ काम करते हुए हमें उनकी मांग पर खरा उतरना होगा.


 क्या हम कृष्णा मेहरा के बारे में अधिक जान सकते हैं, जो किरदार तब्बू फिल्म ‘खुफिया’ में निभा रही हैं?

पेशेवर रूप से, वह अच्छा काम करती है. लेकिन वह जो है, वह कहीं अधिक स्तरित और दिलचस्प है. इसके अलावा उनके किरदार में और भी बहुत कुछ जुड़ जाता है. वह क्या कर रही है और कौन है, इसमें एक अजीब और अजीब समानता है? फिल्म देखने के बाद आप समझ जाएंगे कि ये सभी चीजें आपस में कैसे जुड़ती हैं.

 स्क्रिप्ट की वह एक चीज क्या है जो आपको किसी भी भूमिका के लिए ‘हां‘ कहने के लिए आकर्षित करती है?

विशाल जी की हर पटकथा को पढ़कर मुझे लगता है कि यह मेरे लिए लिखी गई है. मुझे उम्मीद है कि वह हमेशा मुझे ध्यान में रखते हुए एक पटकथा लिखेंगे.

 फिल्म चुनने की प्रक्रिया क्या है?

दरअसल, मेरे लिए स्क्रिप्ट को करने के लिए प्रासंगिकता होनी चाहिए, वह भी क्या कर रही है? वह कहानी में कैसे फिट होती है? निर्देशक कौन है? क्या यह किरदार मुझे पसंद आया? कारक बदलते हैं, कई बार आप किसी खास अभिनेता-निर्देशक के साथ काम करना चाहते हैं. लेकिन रोल इतना अलग है जो आपने पहले कभी नहीं किया होगा. तो, ऐसी भूमिकाओं में, आपको लगता है कि आपको यह करना चाहिए. आपको यह भी लगता है कि यह आपको एक अभिनेता के रूप में विकसित होने में मदद करेगा.

 क्या तब्बू पहली बार विशाल भारद्वाज के साथ काम करने वाले अभिनेता के लिए कोई टिप्स देंगी ?
 

मैं केवल एक टिप देना चाहता हूं, उर्दू भाषा में सही डिक्शन के साथ आओ.


 फिल्म-निर्देशन करते समय आप पूर्णता के लिए कई टोपी पहनते हैं, संगीत भी अनुकूलन सही होना चाहिए? क्या आप सहज होना पसंद करते हैं?

मुझे लगता है, सहज होने के लिए आपको बहुत कुछ तैयार करना होगा. सहजता का अर्थ बदल जाता है, जब तब्बू और नसीर भाई जब वह तैयारी करते हैं तो हम पीछे रह जाते हैं, क्योंकि उनका प्रदर्शन जादुई होता है. मेरे लिए बुनियादी घरेलू काम महत्वपूर्ण है. हमने सेट पर कई सीन बदले हैं. हर फिल्म में कुछ भी परफेक्ट नहीं होता है, हर दिन आपको कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ता है, इसलिए यह हर रोज परीक्षा लेने जैसा है. इस फिल्म में भी हमें शॉट्स के बीच में किरदार बदलना पड़ा. तो मुझे लगता है कि सहजता का अर्थ यह है कि आप तैयार होकर आ सकते हैं और सहज होने का प्रयास कर सकते हैं. कभी-कभी सहज होने की कोशिश में आप गलत निर्णय ले लेंगे. तुम वापस जाओगे और महसूस करोगे कि मैंने इस बारे में नहीं सोचा था?

 क्या हम आपको किसी भी समय अभिनय करते देखेंगे?
 

 मैं बहुत बुरा अभिनेता हूं. कैमरे के सामने मेरी हंसी जम जाती है. मैं कैमरों का सामना करते हुए एक मूर्ख व्यक्ति हूं. मैं कैमरों के पीछे तेज और मजाकिया हूं. फिल्म ‘खुफिया‘ जासूसी उपन्यास पर आधारित एक जासूसी थ्रिलर है, ‘‘एस्केप टू नोव्हेयर.‘‘ दिलचस्प किरदार कृष्णा मेहरा किसी और ने नहीं बल्कि सबसे उत्साही कलाकार ने निभाया है. तब्बू रिसर्च एंड एनालिसिस विंग में एक ऑपरेटिव हैं. वह भारत के रक्षा रहस्यों को बेचने वाले तिल का पता लगाती है. तब्बू प्रेमी और जासूस होने के दोहरे व्यक्तित्व को संभालती नजर आएंगी.