80 के दशक की मशहूर ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ की कुछ अनकही बातें जानकर आप भी हो जायेंगे हैरान

1 min


रामायण महाभारत

‘महाभारत’ और ‘रामायण’ के दोबारा प्रसारण पर पुरानी यादें हुई ताज़ा , इस वजह से लोग फूंक देते थे ट्रांसफार्मर

लॉकडाउन के बीच एक बार फिर दूरदर्शन पर रामानंद सागर की रामायण और महाभारत प्रसारित की जा रही है। बड़ी बात है कि इस बार भी रामायण और महाभारत को दर्शकों का वहीँ असीम प्यार मिल रहा है। हाल ही में बार्क (BARC) की रिपोर्ट के मुताबिक रामायण ने दूरदर्शन पर टीआरपी के नए रिकॉर्ड बनाए है। मतलब जिस दूरदर्शन को लोगों ने देखना तक बंद कर दिया उसने पांच साल के रिकॉर्ड तोड़ दिए है। 80 दशक की रामायण और महाभारत का क्रेज कुछ अलग ही था। तो आज मायापुरी आपको रामायण और महाभारत से जुड़ी कुछ ऐसी खास बातें बताएंगे जो आज तक ना पता हो।

रामानंद सागर की ‘रामायण’ की कुछ खास बातें…

रामायण

Source – Hindustaan

80 के दशक में जब रामायण धारावाहिक टीवी पर आया तो इसके साथ ही कई स्पेशल इफेक्ट्स भी देखने को मिले थे, जैसे हनुमान का संजीवनी बूटी लाना, पुष्पक विमान का उड़ना आदि। प्रेम सागर ने अपने एक इंटरव्यू में बताया था कि ‘स्पेशल इफेक्ट्स के बारे में जानने के लिए वे ओरिजिनल किंग कॉन्ग के निर्माता से हॉलीवुड में मिलकर आए थे। साथ ही कई किताबों को पढ़कर रामायण में ये इफेक्ट्स डाले गए।’ पांच महाद्वीपों में दिखाई जाने वाली रामायण को विश्व भर में 65 करोड़ से ज्यादा लोगों ने टीवी पर देखा था।

जब रामायण के दौरान बहुत सारे जूनियर कलाकारों की जरूरत पड़ती थी तो गाँव-गाँव जाकर ढोल नगाड़ो के साथ घोषणा की जाती थी और कलाकार भर्ती किए जाते थे।

रावण की मृत्यु पर गाँव में मनाया गया था शोक

रामायण रावण की मृत्यु

Source – Youtube

हर हफ्ते रामायण के ताजा एपिसोड के कैसेट दूरदर्शन के दफ्तर भेजे जाते थे। कई बार तो ये कैसेट प्रसारण के आधे घंटे पहले भी पहुंचे। रामायण की शूटिंग लगातार 550 से ज्यादा दिनों तक चली थी। बता दें कि जब ‘रामायण’ में रावण की मृत्यु होती है तो रावण का किरदार निभाने वाले अरविंद त्रिवेदी के गांव में शोक मनाया गया था।

राम सेतु का सीन गुजरात में नहीं चेन्नई में किया गया था शूट

रामायण राम सेतु

Source – Indiatv

रामायण में राम सेतु के निर्माण का दृश्य चेन्नई में शूट किया गया था। प्रेम सागर ने बताया था कि चेन्नई के नीले समुद्र जैसा दृश्य गुजरात में नहीं मिल पाया था, जिस कारण उन्हें उसे चेन्नई में शूट करना पड़ा। कहा जाता है कि उस दौर में रामायण के प्रसारण के दौरान अफसर से लेकर नेता तक किसी से मिलना तो क्या किसी का फोन भी उठाना पसंद नहीं करते थे।

लव कुश के कारण 10 साल तक चला था कोर्ट केस

रामायण

Source – Hindustaan

रामायण के 78 एपिसोड पूरे होने के बाद दर्शको ने लव कुश की कहानी की मांग की थी। इस कहानी के लिए रामानंद सागर तैयार नहीं थे और उन्होंने कहा कि अगर वो लव कुश की कहानी बनाएंगे तो वो एक काल्पनिक कहानी होगी। इस कहानी के टीवी पर आते ही कई विवाद सामने आए और रामानंद सागर पर दस साल तक कोर्ट केस चला था।

महाभारत की जुड़ी कुछ खास बातें …

महाभारत

Source – Youtube

1988 में जब ‘महाभारत’ शुरू हुआ था तब हर घर में टीवी नहीं होता था। लोग दूसरों के घरों में टीवी देखने जाते थे। जिनके पास दो टीवी होती थी। एक ब्लैक एंड व्हाइट और एक कलर टीवी।’महाभारत’ देखने के लिए जब लोग उनके घर पर जाते थे तो ब्लैक एंड व्हाइट टीवी पर फ्री दिखाते थे वहीं कलर टीवी के पांच पैसे लेते थे। मतलब लोग हर एपिसोड के लिए देखने के लिए पैसे दिया करते थे।

महाभारत और रामायण

Source – Indiatv

 बल्कि मुंबई में भी कोई अलग स्थिति नहीं थी। ‘महाभारत’ के प्रसारण के वक्त घर भीड़ से भर जाता था। लोग दरवाजे तक बैठे होते थे। ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ ने लोगों को एक साथ जोड़ने का काम किया।’नीतीश भारद्धाज जिन्होंने महाभारत में 23 साल की उम्र में कृष्ण जी का किरदार निभाया था। लोग कृष्ण का ही रूप समझने लगे थे। महाभारत के सभी कलाकारों को खूब लोकप्रियता मिली थी।

लाइट चले जाने पर लोग ट्रांसफार्मर में लगा देते थे आग

महाभारत और रामायण

Source – Timesofindia

80 के दशक में सीरियल को लेकर लोगों के बीच इतना क्रेज था कि अगर बिहार और यूपी में सुबह नौ से 10 बजे के बीच लाइट चली जाती थी तो लोग ट्रांसफार्मर में आग लगा देते थे। बिजली विभाग ये सुनिश्चित करता था कि ‘महाभारत’ के वक्त बिजली ना जाए। ‘

प्रोडक्शन टीम के सदस्य किशोर मल्होत्रा ​​के अनुसार, उस समय महाभारत सीरीज़ के निर्माण की कुल लागत 9 करोड़ थी।

ये भी पढ़ें– फिल्म प्रोड्यूसर करीम मोरानी की बेटी कोरोना पॉजिटिव, अब क्वारंटाइन में पूरा परिवार


Like it? Share with your friends!

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये