फिल्म रिव्यू: मास्टर

1 min


Vijay and Vijay Sethupaty

प्रोडूसर- ज़ेवियर ब्रितो

डायरेक्टर- लोकेश कनकराज

स्टार कास्ट- विजय, विजय सेतुपति, मालविका मोहनं, एंड्रिया जेरेमियाह, अर्जुन दास, शांतनु भाग्यराज, महानदी शंकर और नासेर

जेनर- सोशल

रेटिंग- ढाई स्टार

ज्योति वेंकटेश

फिल्म विजय और विजय सेतुपति के इर्द-गिर्द घूमती है

Vijay and Vijay Sethupaty

फिल्म एक यंग कॉलेज प्रोफेसर जे.डी उर्फ जॉन दूरईराज (विजय) के इर्द-गिर्द घूमती है जो यंग क्रिमिनल के सुधारात्मक सुविधा के लिए जाता है।

उसे अपने ही विवेक के कारण राउडी भवानी (विजय सेतुपति) के खिलाफ लड़ने के लिए मजबूर होना पड़ता है। भवानी जो अपने क्रिमिनल एम्पायर को आगे बढ़ाने के लिए मासूम लोगो का लाभ उठा रहा है।

विजय के साथ-साथ विजय सेतुपति के प्रशंसकों को यह जानकर खुशी होगे कि इस फिल्म में पहली बार बेहद लोकप्रिय सितारों को एक साथ रखा गया है, जहां दोनों मेगा स्टार्स को प्रमुख भूमिकाएं दी गई हैं।

यह फिल्म 1992 में नागरकोइल में शुरू होती है, जिसमें एक युवा भवानी अपने जीवन की सिफ़ारिश करता है। उनके लॉरी ड्राइवर-पिता और मां को बेरहमी से मार डाला जाता है और उसे टॉर्चर किया जाता है।

भवानी को पल-पल टॉर्चर देने के लिए बालग्रह जेल में भेज दिया जाता है, जहाँ उसे हर दिन टॉर्चर किया जाता है। वह अपने जेल के कमरे की दीवारों पर मुक्का मारकर क्रोध प्रकट करता है, जो आपको ओल्डबॉय के एक सीन की याद दिलाता है।

दूसरी ओर, विजय सेतुपति की तरह, विजय की ऐसी कोई बैकस्टोरी नहीं है, हालाँकि उनका किरदार कोई शॉकिंग भरा नहीं हैं, क्योंकि वह चेन्नई के एक कॉलेज में जे.डी नामक प्रोफेसर की भूमिका में है।

जो अपनी जेब में ‘हिप फ्लास्क’ की बोतल रखता है और उसे बार बार पिता रहता है, उसके होठों पर हमेशा एक सलाह तैयार रहती है और वह अपनी क्लास में लेक्चर के बीच मामूली से शोर पर बच्चो को मरने के लिए तैयार रहते है।

एक्शन सीक्वेंस जो लोकेश की पिछली फिल्मों में मुख्य आकर्षण रहे हैं, इस बार कही भी नहीं हैं

Vijay

एक्शन सीक्वेंस, जो लोकेश की पिछली फिल्मों में मुख्य आकर्षण रहे हैं, इस बार ऐसा लग रहा है कि वो मुख्य आकर्षण इस बार इस फिल्म में कही भी नहीं हैं।

हालांकि यह शानदार ढंग से एक्सीक्यूट होता हैं और अपने वर्चस्व के मामले में आपको चकाचौंध करते हैं। एक विशेष अनुक्रम, जिसमें जेडी और उनके पूर्व सहपाठी वनाथी (एंड्रिया) शायद ही कोई रोमांच प्रदान करते है।

फिल्म कई बार आपके धैर्य की परीक्षा लेती है, यदि आप विजय या विजय सेतुपति के प्रशंसक हैं, तो इसके साथ ही इसके फाइटिंग सीक्वेंस के साथ-साथ आप लंबे-चौड़े घुमावदार दृश्य भी इसमें देख सकते हैं, जिन्हें बस थोड़ा ध्यान से देखने की जरूरत है।

जबकि जेडी का कोई फ्लैशबैक नहीं दिखाना बहुत ही चालाक लगता है (विशेष रूप से शुरुआती समय में), कि नायक शराब पीने का इतना आदी क्यों है, इसे रेखांकित करने में निर्देशक विफल रहता हैं।

आखिरकार फिल्म को किसने बचाया और इसे धमाकेदार बनाया, क्या यह विजय और विजय सेतुपति दोनों का कमाल का प्रदर्शन हैं।

विजय ऐसा नाचता है  एक सपने की तरह नाचता है, और कॉलेज के दृश्यों में अच्छा प्रभाव डालने के लिए उनके फेनस का क्रेज दिखाया जाता।

फिल्म का मुख्य आकर्षण दो अभिनेताओं के बीच का अंतिम टकराव है

Vijay and Vijay Sethupaty

दर्जी के साथ उनके कुछ डायलाग है जो उनकी पिछली हिट फिल्मों की याद दिलाते हैं। यह उनके पूरे क्रेडिट के लिए भी है कि वह उन क्षणों को बेचने का प्रबंधन भी करते हैं जब उन्हें एडवाइस की पेशकश करनी होती है।

हालांकि अगर कोई अन्य हीरो इसमें होता, तो ये पोर्शन उपदेश के रूप में सामने आते, लेकिन आप अंत में महसूस करते हैं कि वे सही हैं।

विजय सेतुपति इस शो को चुराने का प्रबंधन करते हैं, हालांकि ऐसा कुछ भी नहीं है जो उनकी सामान्य कैश़ूअल  एक्टिंग स्टाइल से अलग हो।

हमें इस सेगमेंट में सहायक किरदारों का एक पूरा ग्रुप मिलता है (एंड्रिया, शांतनु, गौरी किशन और श्रीमान जैसे कलाकार फ्लीटिंग अप्पेअरन्केस से अधिक बनाते हैं), लेकिन वे मुश्किल से कहानी में किसी भी नाटकीय दृश्य में योगदान देते हैं जिसे महत्वपूर्ण कहा जा सकता है।

यह अफ़सोस की बात है कि मालविका मोहनन एक फ्लीटिंग ब्लिंक में वेस्टेड है और आप जेडी के प्रमुख चारुलता की भूमिका में उनकी उपस्थिति को मिस करेंगे।

फिल्म का मुख्य आकर्षण दो अभिनेताओं के बीच का अंतिम टकराव है, जिसमें एक-दूसरे के साथ कुछ क्षणों का तालमेल होता है, जो फिल्म को एक उच्च नोट पर समाप्त करने में मदद करता है और सिनेमा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठता है।

एल्बम के कई गाने पहले से ही चार्ट-टॉपर हैं

Vijay

निस्संदेह, अभी तक मास्टर में स्लीक फाइट सीक्वेंस के अलावा एक और हाइलाइट यह है कि यह हालिया मेमोरी में सबसे बेहतर साउंड ट्रैक वाली बिग-बजट तमिल फिल्म है, और अनिरुद्ध रविचंदर (जिन्होंने धनुष के चार्ट बस्टर सोंग ‘व्हाई दिस कोला वेरी कोला वेरी डी’ की रचना की थी) को सभी प्रशंसा के साथ चलना चाहिए।

एल्बम के कई गाने पहले से ही चार्ट-टॉपर हैं, लेकिन अनिरुद्ध का बैकग्राउंड स्कोर यहां वास्तविक विजेता है, जो फिल्म के कई एक्शन दृश्यों और धीमी गति के क्षणों को बढ़ाते हुए रॉक-हैवी थीम को स्पंदित करता है।

अनिरुद्ध द्वारा नियोजित एक मास्टर स्ट्रोक (या यह कनकराज का आईडिया है) फिल्म में दो पुराने गोल्डन हिट्स शामिल किए गए हैं, हालांकि फिल्म को हिंदी में डब किया गया है।

फिल्म सुपर डुपर हिट हो सकती है, लेकिन निर्देशक कनकराज अपनी पिछली फिल्मों की तरह एक निर्देशक के रूप में अपनी चमक नहीं दिखा पाते हैं।

अनु- छवि शर्मा

SHARE

Mayapuri