माफिया क्वीन गंगूबाई बनी आलिया भट्ट, जानिए कौन थी ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’

1 min


'गंगूबाई काठियावाड़ी'

आलिया भट्ट की अपकमिंग फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ का फर्स्ट लुक पोस्टर रिलीज हो गया है। इस फर्स्ट लुक पोस्टर को आलिया ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर करते हुए लिखा ये रही ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ आलिया ने दो पोस्टर शेयर किए इन दोनों पोस्टरों में आलिया का अलग-अलग लुक दिख रहा हैं।

पहले पोस्टर में आलिया भट्ट गंगूबाई के जवानी के दिनों में दिखाई दे रही हैं। पोस्टर में लाइट ब्लू ब्लाउज और रेड स्कर्ट में टेबल पर टेक लगाए आलिया बैठी हुई नजर आ रही हैं साथ में टेबल पर पिस्टल भी रखी दिखाई दे रही हैं। इसके अलावा आलिया ने लाल बिंदी और हरे रंग की चूड़िया भी पहने हुई हैं।

View this post on Instagram

Here she is, Gangubai Kathiawadi 🌹 #SanjayLeelaBhansali @prerna_singh6 @jayantilalgadaofficial @bhansaliproductions @penmovies

A post shared by Alia Bhatt ☀️ (@aliaabhatt) on

वही दूसरे पोस्टर में आलिया ब्लैक एंड व्हाइट लुक में नजर आ रही हैं पोस्टर में आलिया आंखों में काजल माथे पर बड़ी रेड कलर की बिंदी और नथ पहने काफी अलग में लुक में नजर आ रही हैं इस पोस्टर में नीचे लिखा हुआ है माफिया क्वीन जो सही भी क्योंकि पोस्टर में आलिया माफिया क्वीन जैसी लग रही हैं।

माफिया क्वीन के आते ही आपके मन में ये सवाल जरुर उठा होगा की आखिर आलिया को माफिया क्वीन क्यों कहा जा रहा है। तो चलिए हम आपको बताते हैं की आखिर आलिया को माफिया क्वीन क्यों जा रहा है और गंगूबाई काडियाबड़ी कौन थी।

बता दें की लेखक एस हुसैन जैदी की किताब माफिया क्वीन्स ऑफ मुंबई के मुताबिक गंगूबाई गुजरात में काठियावाड़ क्षेत्र की रहने वाली थी, जिसके चलते उनको लोग गंगूबाई कठियावाड़ी कहकर पुकारने लगे। गंगूबाई काठियावाड़ी को काफी कम उम्र में ही वेश्यावृति के लिए मजबूर किया गया। जी हां गंगूबाई काठियावाड़ी ने बचपन से अभिनेत्री बनने का सपना देखा था। लेकिन बहुत कम उम्र में वो अपने पिता के अकाउंटेट के प्यार में पड़ गई और ये प्यार परवान चढ़ा और दोनों शादी करके मुंबई भाग कर आ गए। लेकिन उनके पति ने ही उन्हें महज पांच सौ रुपये के लालच में कोठे में बेच दिया था। इसके बाद गंगूबाई वेश्यावृति के जाल से बिल्कुल निकल नही पाई और कुख्यात अपराधी गंगूबाई के ग्राहक बने। और  बाद में गंगूबाई मुंबई के कमाठीपुरा इलाके में कोठा चलाने लगी।

किताब के मुताबिक माफिया डॉन करीम लाला की गैंग के एक सदस्य ने गंगूबाई का रेप किया था जिसके बाद इंसाफ की मांग के लिए गंगूबाई करीम लाला से मिली और राखी बांधकर अपना भाई बना लिया। कहा जाता है की करीम लाला की बहन होने के नाते ही कमाठीपुरा की कमान गंगूबाई के हाथ में आ गई। ऐसा भी कहा जाता है की गंगूबाई किसी भी लड़की को उसकी बिना मर्जी के कोठे में नही रखती थी। बता दें की गंगूबाई ने सेक्सवर्कर और अनाथ बच्चों के लिए काफी काम भी किया था।

इस कहानी को पढ़कर इस बात का अंदाजा तो लगाया जा सकता है की ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर धमाल जरुर मचा सकती हैं खैर वो तो वक्त ही बताएगा की पर्दे पर गंगूबाई की कहानी क्या कमाल दिखाती है।

बताते चले की इस फिल्म को संजय लीला भंसाली डायरेक्ट कर रहे हैं अब संजय लीला भंसाली डायरेक्ट कर रहे हैं तो उम्मीद है फिल्म थोड़ी कंट्रोवर्सी में आ सकती है। वही फिल्म को संजय लीला भंसाली की प्रोडक्शन कंपनी और जयंतीलाल गाडा की प्रोडक्शन कंपनी पेन इंडिया प्रोड्यस कर रही है। फिल्म इसी साल 11 सितंबर 2020 में रिलीज होगी।

और पढ़े: जेएनयू हमले पर जो आलिया भट्ट ने कहा वो आपको जरुर जानना चाहिए


Like it? Share with your friends!

Pankaj Namdev

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये