सलमान खान को उनके जन्म दिन पर एक लेखक का खुला खत- “सुनो मेरी कहानी’

1 min


Salman Khan and Suresh Garg

डियर सलमान,

आपको आपके 55 वें जन्मदिन पर ढेरों बधाई,  जीवन की 56वीं शुरुवात पर आप चाहो तो देश के तमाम उन लेखकों के सपने को साकार करने में मदतगार बन सकते हो जो बॉलीवुड से दूर रहकर अपनी सोच को उड़ान देने की शुरुवात को तरसते रहते हैं।

इस करपाने की शरुवात को सिर्फ आप और आप ही आरम्भ दे सकते हो। अपने बर्थ डे पर मेरे और मेरे जैसे तमाम देश के छोटे छोटे शहरों , कस्बों और गांवके रहनेवाले लेखकों के ‘सपनों का गुलदस्ता’ हमारी इन भावनाओं के साथ कबूल करें।

आप एक ऐसा टीवी रियलटी शो आयोजित करें जिसके मंच पर खड़े होकर, बड़े बड़े दिग्गजों के सामने, एक लेखक अपनी कहानी सुना सके

Salman Khan and Suresh Garg

”सलमान भाई, आप आज अपनी जिन्दगी में सक्षमता के उस पड़ाव पर पहुच गए हो (56वें वर्ष में प्रवेश करने के समय) जब आप लेखकों के लिए बहुत कुछ कर सकते हो।

मैं चाहता हूं कि आप एक ऐसा टीवी रियलटी शो आयोजित करें जिसके मंच पर खड़े होकर, बड़े बड़े दिग्गजों के सामने, एक लेखक ( नए नए लेखक) अपनी कहानी सुना सके।

आजतक पूरी दुनिया मे कहीं भी लेखकों के लिए कोई रियलटी शो नहीं बना है। कपिल शर्मा का शो देखा, आपके जन्मदिन के दिन पुनर्प्रसारण में जहां आप तीनो भाई थे।

यह प्रसंग यहां अप्रासंगिक है, पर ध्यान दिलाने के लिए कि इस शो से बॉलीवुड को क्या मिलता है? कुछ मिलने वाला नहीं है।

लेकिन अगर आप उसी तर्ज पर नये लेखकों के लिए एक शो शुरू करवाते हो ” सुनो मेरी कहानी- TV realty show” तो ऐसे शो से हज़ारों राइटर जुड़ सकते हैं।

उनकी नई नई कहानियां सुनने को मिलेंगी, सोचिए अगर एक लाख कहानियों में से दस हज़ार कहानियां भी सेलेक्शन के परोल में आजाती हैं और उनमें से कुछ कहानियां भी कुछ निर्माताओं को पसंद आजाती हैं।

तो आने वाले कई सालों तक निर्माता – निर्देशक उन नई नई कहानियों पर फ़िल्म बना सकते हैं और दर्शक विविध विषय पर रोचक ‘कंटेंट’ पाकर सिनेमा से जुड़ा रहेगा और थिएटर पर फ़िल्म देखने जाएगा।

और , ये वो ‘अछूते कंटेंट’ होंगे- जो सुदूर गांव में बैठा, कहानीकार बनने के सपने बुनने वाला लिखता है। जो कभी किसी सेक्शपिअर को नही पढ़ा होता, खुरुसचो को सुना नही होता कभी, न किसी मण्टो को जनता है।

जिसके अंदर सोच होती है, कल्पना शक्ति होती है, मगर बॉलीवुड में पहुचकर किसी सलमान खान को कहानी सुना पाना उसके लिए दिवास्वप्न से भी दुष्कर होता है।

अगर ऐसा हो पाता है तो इस प्रयास से बॉक्स आफिस के भी बल्ले बल्ले होंगे। निर्माता करोड़ों की कमाई भी बॉक्स आफिस से कर सकता है क्योंकि नई कहानी के साथ दर्शकों का एक लंबा हुजूम जो निर्माता के साथ होगा।

अगर एक हज़ार लेखक कहानी-शो के हिस्सेदार बनते हैं तो एक हज़ार गांवों का दर्शक भी उन लेखकों के साथ होगा।

“चूंकि सलमान साहब आप खुद एक दिग्गज़ राइटर के बेटे हैं। आपके पिता सलीम साहब की जोड़ी ( सलीम-जावेद) ने फिल्मी लेखकों को सम्मान दिलाया है और आप खुद भी राइटर हैं, आप लेखकों का दर्द समझ सकते हैं।

जब गानों का म्यूजिकल-शो हो सकता है, कलाकारों का कपिल शर्मा शो हो सकता है, तब छोटे शहरों और गांव खेड़े के लेखकों के लिए कोई टीवी रियलटी शो क्यों नही हो सकता?

ज़रूरत है सिर्फ एक मंच की जो ‘डांस इंडिया डांस’ या ‘कपिल शर्मा शो’ के जैसा नए लेखकों को एक प्लेटफार्म दे। भाई, हमने तो ऐसे किसी रियलटी शो के लिए एक नाम भी सोच लिया है- “सुनो मेरी कहानी – TV realty show”

बस आप सुनलो हम लेखकों की फरियाद शुभ कामनाओं के साथ।”

सस्नेह आपका,
सुरेश गर्ग


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये