निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा ने क्यों कहा ‘Shikara’ के आलोचकों को गधा !

1 min


Shikara

‘Shikara’ फिल्म को लेकर सामने आई आलोचनाओं ने विधु विनोद चोपड़ा को किया परेशान

बेहद ही गंभीर मुद्दे पर बनी फिल्म शिकारा(Shikara) रिलीज़ हुई। लोगों ने फिल्म देखी और नकार दिया। फिल्म निर्देशक और निर्माता विधु विनोद चोपड़ा(Vidhu Vinod Chopra) पर कई सवाल उठे। उन पर कश्मीरी पंडितों के नाम पर एक कमर्शियल फिल्म बनाने का आरोप लगा, तो वहीं कश्मीरी पंडितों ने भी विधु पर उनकी अनदेखी के आरोप लगा दिए। नतीजा विधु अब खीज गए हैं और उन्होने फिल्म की आलोचना करने वालो को ‘गधा’ कह दिया है।

क्या कहा है विधु विनोद चोपड़ा ने?

अपनी फिल्म शिकारा(Shikara) की ऐसी आलोचना से तंग आकर विधु ने कहा – ”मुझे लगता है आज कल हर चीज़ मज़ाक हो गई है। मैंने एक फिल्म बनाई जिसने पहले दिन 30 करोड़ रुपए कमाए। लेकिन जब मैंने अपनी मां की याद में एक फिल्म बनाई, जिसने पहले दिन 30 लाख रुपए कमाए, तो लोग कह रहे हैं कि मैंने कश्मीरी लोगों के दर्द को कॉमर्शियलाइज़ कर दिया। मेरे हिसाब से जो लोग ऐसा सोचते हैं, वो गधे हैं। इसीलिए मैं आप सबसे कहना चाहता हूं कि गधे मत बनिए। पहले फिल्म देखिए और फिर उस पर अपनी राय कायम करिए।”

शिकारा को मिली है चौतरफा तारीफ – विधु विनोद चोपड़ा

विधु विनोद चोपड़ा का कहना है कि उनकी फिल्म को चौतरफा तारीफ मिली है। ‘टाइटैनिक’ और ‘अवतार’ जैसी फिल्मों के डायरेक्टर जेम्स कैमरन ने भी उनकी इस फिल्म को मास्टरपीस बताते हुए उन्हे 4 पन्ने का लेटर लिखा। बल्कि भारत में भी रिलीज़ के दौरान सभी थियेटर हाउसफुल थे। फिर अचानक ये नफरत की आंधी पता नहीं कहां से आ गई। यहां तक कि IMDB (इंटनेट मूवी डेटाबेस) पर पहले जहां उनकी फिल्म की ‘शिकारा’ की रेटिंग 8-9 स्टार के करीब थी तो वहीं वो अचानक 1 स्टार हो गई। जिससे वो बहुत नाराज़ और निराश हैं।

क्यों हैं फिल्म को लेकर नाराज़गी ?

शिकारा(Shikara) कश्मीर घाटी से कश्मीरी पंडितों के विस्थापन और उन पर हुए जुल्म की कहानी पर आधारित फिल्म है। लेकिन लोगों का आरोप है कि उन्होने इस फिल्म से जुड़ाव महसूस नहीं किया। कश्मीरी पंडितों की असल कहानी दिखाने की बजाय इसमें रोमांटिक स्टोरी ज्यादा दिखाई गई है। यहां तक कि जिन पर ये कहानी बेस्ड है यानि कश्मीरी पंडित। उन्होने भी इस फिल्म को लेकर नाराज़गी ज़ाहिर की। दिल्ली में स्क्रीनिंग के दौरान तो एक कश्मीरी पंडित महिला ने कड़ी नाराज़गी जताते हुए फिल्म को घटिया तक बता दिया था। हालांकि विधु के अनुसार उन्होने शिकारा(Shikara) को बनाने के लिए अपनी लाइफ के 11 साल इनवेस्ट किए हैं।

हालांकि फिल्म देखकर लालकृष्ण आडवाणी के छलक गए थे आंसू

भले ही लोग शिकारा फिल्म से जुड़ाव महसूस ना कर पाएं हो लेकिन कुछ लोगों को इस फिलम के दौरान रोते हुए भी देखा गया। बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी भी स्पेशल स्क्रीनिंग में इस फिल्म को देखने के लिए पहुंचे थे। और इस देखन के बाद वो अपने आंसूओं को रोक नहीं पाए। ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था।

और पढ़ेः विधु विनोद चोपड़ा : कश्मीर हमारा है और हमारा ही रहेगा !

 


Like it? Share with your friends!

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये