इंडस्ट्री से खफा हुए करण जौहर! MAMI से दे सकते हैं इस्तीफा…जानें क्या है कारण?

1 min


Karan Johar MAMI

तो क्या वाकई MAMI से वाकई अलग हो जाएंगे करण जौहर

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद सलमान, एकता कपूर ही नहीं बल्कि कई स्टार किड्स को भी सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग का शिकार होना पड़ा है। लेकिन सबसे ज्यादा जिस शख्सित के बारे में बोला या सुना गया वो थे करण जौहर। जिन्हें सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा ट्रोलिंग का शिकार बनाया गया। वहीं अब ख़बर आई है कि करण जौहर MAMI(मुंबई अकेडमी ऑफ द मूविंग इमेज) के डायरेक्टर के पद से इस्तीफा दे सकते हैं।

जी हां….कहा ये भी जा रहा है कि करण इस वक्त इंडस्ट्री के लोगों से काफी खफा चल रहे हैं और अब उन्होने खुद को MAMI से अलग करने का फैसला ले लिया है।

करण जौहर ने MAMI के दूसरे पदाधिकारियों को किया है ईमेल

ख़बरें इस बात की भी है कि करण जौहर ने इस संबंध में MAMI बोर्ड के दूसरे पदाधिकारियों को ईमेल भी कर दिया है और अपने इस्तीफे को लेकर जानकारी उन्हें दी है। बोर्ड के पैनल में विक्रमादित्य मोटवाने, सिद्धार्थ रॉय कपूर, जोया अख़्तर और कबीर ख़ान हैं। वहीं जानकारी मिली है कि दीपिका पादुकोण करण जौहर को मनाने में जुटी हुई हैं। दीपिका MAMI की अध्यक्ष हैं।

इस बात से नाराज़ हैं करण – सूत्र

कहा जा रहा है कि करण जौहर इंडस्ट्री के लोगों से काफी नाराज़ हैं। क्योंकि सुशांत की मौत के बाद जब हर प्लेटफॉर्म और हर जगह पर उन्हें ट्रोल किया जा रहा था तो उन्हें किसी का सपोर्ट नहीं मिला। इंडस्ट्री से कोई भी उनके सपोर्ट में आगे नहीं आया। इसी बात पर करण नाराज़ भी बताए जा रहे हैं।

बॉलीवुड के कई स्टार्स को कर चुके हैं अनफॉलो

इन बातों में कितनी सच्चाई है या नहीं ये तो आने वाले वक्त में पता चल ही जाएगा लेकिन खास बात ये है कि सुशांत की मौत के बाद ट्रोलिंग झेल रहे करण ने बॉलीवुड के कई सेलेब्स और अपने कई खास दोस्तों को ट्विटर से अनफॉलो भी कर दिया था। जिसको लेकर भी कई सवाल उठे थे। लेकिन करण जौहर ने MAMI के इस्तीफे से लेकर हर बात पर चुप्पी साध रखी है। 14 जून के बाद उन्होने सोशल मीडिया पर कुछ पोस्ट भी नहीं किया है। हालांकि 14 जून को सुशांत की मौत के बाद उन्होने एक इमोशनल पोस्ट ज़रुर शेयर की थी। जिसमें उन्होने 1 साल से सुशांत के साथ टच में ना रहने का दुख भी जताया था।

और पढ़ेंः सुशांत सुसाइड केसः एक्ट्रेस रूपा गांगुली ने उठाए सवाल, अगर हुई निष्पक्ष जांच तो ऑफिसर्स की जान को हो सकता है खतरा